उत्तर प्रदेश में अब BJP नेता भी सुरक्षित नहीं है। ताजा मामला बस्ती के एपीएन पीजी कालेज का है जहां के पूर्व छात्रसंघ अध्यक्ष आदित्य नारायण तिवारी कबीर की खुलेआम गोली मारकर हत्या कर दी गई। गोली लगने के बाद आदित्य गंभीर से घायल हुआ उन्हें आनन फानन में जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया मगर तबतक बहुत देर हो चुकी और डाक्‍टरों ने उन्‍हें मृत घोषित कर दिया।

दरअसल आदित्य तिवारी बस्ती के मालवीय रोड स्थित अग्रवाल भवन परिसर में खड़े थे। तभी अचानक बाइक सवार युवक आए और उन पर फायरिंग कर दी। इसके बाद जब हमलावर भागने लगे तो भीड़ ने मौके पर दबोच लिया। पुलिस ने हमलावरों के पास से वारदात में इस्तेमाल किया असलहा बरामद कर लिया है। वारदात से नाराज बीजेपी कार्यकर्ता सड़क पर उतर आए और जमकर प्रदर्शन किया, जिसे देखते हुए मौके पर कई थानों की फोर्स तैनात कर दी गई है।

अब 16 साल की बच्ची से रेप के मामले में BJP विधायक पर आरोप तय, क्या ऐसे बचेंगी बेटियां?

मीडिया में आई रिपोर्ट्स के अनुसार, आदित्य तिवारी की बस्ती में उनके समर्थकों में काफी आक्रोश है। हर ओर व हर दल के नेताओ ने घटना की कड़ी निंदा की है व अभियुक्तों के विरुद्ध सख्त कार्यवाही की मांग की है। जबकि परिजनों ने सख्त कार्रवाई की मांग की है की सभी हत्यारे बख्शे न जाये। उन पर केस दर्ज कर जेल भेजा जाए। पुलिस मामले को गहनता से जांच कर रही है।

बता दें कि इससे पहले शनिवार की रात पुष्पेंद्र यादव नाम के एक शख्स को पुलिस ने मुठभेड़ में मारा था। पुलिस का कहना है कि पुष्पेंद्र पर पुलिस ने गोली जवाबी कार्रवाई में चलाई थी। हालांकि मीडिया में आई रिपोर्ट्स के अनुसार, पुलिस ने पुष्पेंद्र को इसलिए गोली मारी क्योंकि उसने ड्यूटी पर तैनात इंस्पेक्टर धर्मेंद्र सिंह चौहान को वसूली देने से इनकार कर दिया था।