लोकसभा चुनाव में जीत के बाद ही BJP ने अपनी सांप्रदायिक राजनीति को धार देते हुए अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी (एएमयू) पर हमला बोला है। अलीगढ़ से दूसरी बार सांसद चुने गए सतीश कुमार गौतम ने अलीगढ़ मुस्लिम विश्विविद्यालय में रखी जिन्ना की तस्वीर को हटाने की बात कही है।

मीडिया से बातचीत में सतीश गौतम ने कहा कि चुनाव जीतने के बाद मेरी पहली प्राथमिकता जिन्ना की तस्वीर को पाकिस्तान भेजना है। उन्होंने कहा कि अब इस देश में जिन्ना ढूंढे भी नहीं मिलेगा, सीधा पाकिस्तान जाएगा। सतीश गौतम ने कहा कि अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी में जो जिन्ना की तस्वीर है, वह एएमयू की मानसिकता दर्शाती है।

सांसद सतीश गौतम के बयान पर छात्रसंघ के पूर्व उपाध्यक्ष नदीम अंसारी ने प्रतिक्रिया दी है। उन्होंने कहा कि जिन्ना आस्था नहीं, इतिहास है। इतिहास को मिटाया नहीं जा सकता। उस वक्त यह नहीं पता था कि भारत का बंटवारा होगा।

मोदी के खेल की पोल-खोल! मायावती बोलीं- हमें कुछ सीटें जीतने दिया ताकि EVM पर सवाल न उठे

नदीम ने कहा कि सांसद पहले संसद व अन्य स्थानों पर लगी जिन्ना की तस्वीरों को हटवाएं। जेएनयू से टुकड़े टुकड़े गैंग में कन्हैया कुमार के साथी रहे शिक्षक अकबर चौधरी को हटवाएं। एएमयू में अवैध रूप से नियुक्त शिक्षकों को भी हटवाएं।

बता दें कि पिछले साल एएमयू में जिन्ना की तस्वीर को लेकर विवाद शुरू हुआ था। तब सांसद सतीश कुमार गौतम ने यह विवाद केंद्र सरकार तक पहुंचा था। सतीश गौतम ने एएमयू में पाकिस्तान के संस्थापक मोहम्मद अली जिन्ना की तस्वीर का मुद्दा उठाते हुए यूनिवर्सिटी के वीसी तारिक मंसूर को खत लिखकर पूछा था कि यूनिवर्सिटी में जिन्ना की तस्वीर क्यों लगाई गई है?

हमने आतंक की आरोपी को संसद पंहुचा दिया, अब हम पाकिस्तान को कैसे आंख दिखाएंगे? : स्वरा

बाद में इस पर विवाद बढ़ा और जिन्ना की तस्वीर लगाए जाने को लेकर 2 मई 2018 को यूनिवर्सिटी में तोड़फोड़, आगजनी और काफी बवाल हुआ था। यूनिवर्सिटी की परीक्षाएं तक टाल दी गई थीं। विभिन्न राजनीतिक पार्टियों के नेताओं के बीच बहस शुरू हो गई थी।