• 868
    Shares

कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी पीएम मोदी की तरह मुश्किल सवालों और प्रेस कांफ्रेंस से बचने की कोशिश नहीं करते। वो पत्रकारों से सवाल लेते है और उसका जवाब भी देते है।

ऐसा ही कुछ आज हुआ जब कॉलेज में 3 हजार महिलाओं को संबोधित कर रहे राहुल गांधी से किसी ने उनके बहनोई रॉबर्ट वाड्रा से जुड़ा सवाल पूछ लिया है। जिसपर उन्होंने जवाब दिया- अगर वाड्रा की जाँच हो तो राफेल की भी जांच होनी चाहिए।

दरअसल, चेन्नई के स्टेला मैरिस कॉलेज में राहुल गांधी ने कई अहम बाते की। जिसमें महिला सुरक्षा से लेकर रोजगार जैसे मामलों पर चर्चा कर रहें थे।

BSNL के पास नहीं है सैलरी देने के लिए पैसा, क्या Jio के लिए BSNL को बर्बाद कर रहे हैं मोदी?

राहुल ने रॉबर्ट वाड्रा से जुड़े सवाल पर जवाब देते हुए कहा, सरकार किसी भी व्यक्ति पर कार्रवाई करने और उसकी जांच करने के लिए स्वतंत्र है, लेकिन दूसरों के बारे में क्या, राफेल डील में नरेंद्र मोदी के खिलाफ सबूत है।

नरेंद्र मोदी राफेल डील में स्पष्ट रूप से समानांतर बातचीत कर रहे थे। फ्रांसीसी राष्ट्रपति ने कहा कि उन्हें राफेल निर्माण के लिए अनिल अंबानी को चुनने के लिए कहा गया था। उन्होंने आधी रात को सीबीआई प्रमुख को बर्खास्त कर दिया, जब सु्प्रीम कोर्ट ने उन्हें बहाल किया था। खुद के खिलाफ कोई जांच क्यों नहीं है?

अब सवाल उठता है कि अगर राहुल ये कहने से पीछे नहीं हट रहें है सरकार किसी भी व्यक्ति पर कार्रवाई करने और उसकी जांच करने के लिए स्वतंत्र है। तो पीएम मोदी अब राफेल से जुड़े सवालों का सामना करेंगें?

क्या राफेल भ्रष्टाचार पर बोलेंगे? क्योंकि पिछली बार जब पुड्डुचेरी के भाजपा कार्यकर्ता ने पीएम मोदी से मुश्किल सवाल पूछा था तो उन्होंने उसे पुड्डुचेरी को वणकम्म कहकर अपनी बात ख़त्म कर दी थी।