• 695
    Shares

बीजेपी ने अपनी पहली लिस्ट में करीब करीब सभी सांसदों को फिर से उसी सीट से लड़ने के लिए मैदान में उतारा है। मगर एक नाम जो सबसे ज्यादा चर्चा का विषय बना हुआ वो है बीजेपी के संस्थापक सदस्यों में से एक लाल कृष्ण आडवाणी का। जिनकी लोकसभा सीट (गांधीनगर) अब बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह के हवाले कर दी गई है।

कांग्रेस नेता पीएल पुनिया ने लाल कृष्णा आडवाणी को टिकट न मिलने पर कहा कि लाल कृष्ण आडवाणी जैसे धुरंधर सांसद की जगह तड़ीपार अमित शाह ले रहे हैं। जनता सब जानती है की शिफ्ट किधर हुआ है और पूरी तरह से एक व्यक्ति के शिकंजे में पूरी पार्टी चली जा रही है।

हालाकिं पुनिया का ये बयान भले ही बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह पर निशाना साधने के लिए रहा हो। मगर कांग्रेस भी अपने वरिष्ठ नेताओं का अपमान करने में पीछे नहीं रही है, अक्सर कांग्रेस पूर्व अध्यक्ष सीताराम केसरी और नरसिंह राव का अपमान उन्ही के दल में कोई पुराना नहीं है। बस वक़्त बदल गया है कल को जो कांग्रेस करती थी अपने वरिष्ठ नेताओं के साथ आज बीजेपी भी वही कर रही है।

आडवाणी जी, अगर गुजरात दंगों में मोदी को बचाया नहीं होता तो आज आपकी ये दुर्गति नहीं होती

बता दें कि केंद्रीय मंत्री जेपी नड्डा ने प्रेस कॉन्फ्रेंस में 184 उम्मीदवारों के नामों का ऐलान किया है। इस लिस्ट में उत्तर प्रदेश, महाराष्ट्र, झारखंड, छत्तीसगढ़, जम्मू कश्मीर, बंगाल, राज्स्थान, असम, अरुणाचल प्रदेश, उत्तराखंड के उम्मीदवारों के नामों की घोषणा की गई है। पीएम मोदी वाराणसी और अमित शाह, लाल कृष्ण आडवाणी की सीट से गांधीनगर से चुनाव लड़ेंगे।