उत्तर प्रदेश में हत्याओं का सिलसिला नहीं रुक रहा। बदमाश सरेआम आम से लेकर खास लोगों की हत्या कर रहे हैं। लेकिन योगी सरकार सर्वे के जरिए सबकुछ अच्छा बता रही है। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ कहते नजर आते हैं कि, पिछली सरकार के मुकाबले अपराध में कमी आई है, जबकि हकीकत इसकी एकदम उलट है।

योगी राज में बदमाशों के हौसले इतने बुलंद हैं कि उन्होंने सोनभद्र के रेनुकोट के नगर पंचायत अध्यक्ष के घर में घुस कर हत्या कर दी। यही नहीं पड़ोस के जिले और प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के संसदीय क्षेत्र वाराणसी में बदमाशों ने एक ठेकेदार और एक दंपत्ति की घर में घुस कर गोली मार हत्या कर दी थी। सपा के आशीष यादव ने ट्वीट करके कहा कि, “योगी राज में उत्तर प्रदेश हत्या प्रदेश बन गया है।”

जबकि मंगलवार को प्रतापगढ़ में बदमाशों ने सुनील कुमार गुप्ता नाम का शख्स की बाइक लूटने के बाद गोली मार दी। हालत गंभीर होने पर सुनील को अस्पताल में भर्ती करवाया गया। इस मामले पर कांग्रेस ने ट्वीट करके कहा है कि, योगी सरकार के राज में उत्तर प्रदेश में गुंडागर्दी चरम सीमा पर है और योगी जी चुप हैं।

योगीराज में इनदिनों दबंगों की गुंडागर्दी के पीछे लचर कानून व्यवस्था इसलिए भी मानी जा रही है क्योंकि घटना के बाद भी न गंभीरता दिखाई जा रही है न संवेदनशीलता।