बैंक ऑफ़ बड़ौदा ने मुंबई के बीजेपी युवा मोर्चा प्रमुख मोहित भारतीय को विलफुल डिफाल्टर घोषित कर दिया है। बैंक ने इसकी सूचना क्षेत्रीय अखबारों को दी। अखबारों मे पब्लिक नोटिस जारी किया गया जिसमें मोहित का फोटो छपा है।

बुधवार को अखबारों मे छपे इस नोटिस के अनुसार बैंक ने घोषित किया कि मोहित भारतीय और एक अन्य व्यक्ति जितेंद्र कपूर ने अपने कर्ज नहीं चुकाए हैं।

मनमोहन के मुकाबले मोदीराज में 38 गुना बढ़े बैंक घोटाले, 1860 से बढ़कर 71500 करोड़ हुआ घोटाला

बैंक के नोटिस में कहा गया है, ‘जनता को यह सूचित किया जाता है कि मोहित भारतीय और जितेंद्र कपूर विलफुल डिफाल्टर हैं। रिजर्व बैंक की इजाजत के मुताबिक बैंक द्वारा उनकी तस्वीर प्रकाशित की जा रही है ताकि जनता को इनके बारे में जानकारी हो सके।’

 

हालांकि मोहित भारतीय ने अपने ऊपर लगे आरोपों को नाकारा है। मोहित ने दावा किया कि उन्होंने पूरा कर्ज चुका दिया है। उन्होंने बैंक पर मानहानि का मुकदमा करने की धमकी दी है। मोहित ने कहा कि जिस अयान ऑर्नामेंट प्राइवेट लिमिटेड नामक कंपनी ने बैंक से कर्ज लिया था, उसके डायरेक्टर पद से वह इस्तीफा दे चुके हैं।

कंपनी ने 2013 मे बैंक से ये क़र्ज़ लिया था। मोहित तब गारंटर थे। मोहित ने कहा कि गारंटर के रूप में उनकी जितनी देनदारी बनती थी, उन्होंने उसे चुका दिया है। कुल क़र्ज़ 90 करोड़ रुपये का था और उन्होंने 76 करोड़ रुपये जमा कर दिए हैं। उनके हिस्से में अब कोई भी बकाया नहीं है। बता दें नोटिस मे ऐसा कुछ नहीं लिखा कि मोहित ने कितना क़र्ज़ नहीं लौटाया है।

RBI ने माना मोदी सरकार में मनमोहन सरकार से ज्यादा हुए बैंक घोटाले, देश को करोड़ों का नुकसान

वो बीजेपी जो देश का पैसा लेकर भागने वालों को वापस लाने की बात कहती है उसकी खुद की पार्टी मे भावी भगौड़े बैठे हैं। ऐसे लोगों के खिलाफ कदम उठाने मे सरकार से शायद चूक हो गई होगी।

लेकिन बैंक ने खुद कदम उठाकर बीजेपी का पर्दाफाश किया है। विजय माल्या और चौकसी जैसों को पकड़ने मे सरकार ने कितना वक्त लगा दिया है। अब अपनी पार्टी से ऐसे लोगों के नाम सामने आ रहा है तो कोई प्रतिक्रया सामने आती नज़र नहीं आ रही है।

साभार: मुंबई मिरर