• 254
    Shares

लोकसभा चुनाव के पहले चरण में भी ईवीएम खराबी सामने आई है। चाहे वो कश्मीर हो या फिर यूपी का बिजनौर हर जगह EVM में गड़बड़ी का मामला सामने आया था।

मीरापुर विधानसभा क्षेत्र के कसौली गांव में वोटर्स हाथी का बटन दबा रहे हैं और पर्ची कमल के फूल की निकल रही है। यानी वोट बीएसपी को डाला जा रहा है, लेकिन वोट बीएसपी को मिलने के बजाए कमल के खाते में जा रहा है।

अब इस मामले पर बसपा सुप्रीमो मायावती ने जमकर मोदी सरकार पर निशाना साधा है। मायावती ने सोशल मीडिया पर लिखा- यदि देश के लोकतंत्र में आमजनता की आस्था को बचाये रखना है तो फिर चुनाव आयोग की यह संवैधानिक जिम्मेदारी बनती है कि वह इन बातों को गंभीरतापूर्वक संज्ञान ले और तत्काल आवश्यक उपाय करे ताकि अगले सभी चरण के चुनाव स्वतंत्र व निष्पक्ष हो सके।

UP में ‘हाथी’ का वोट ‘कमल’ को गया, रोहिणी बोलीं- खराब EVM हमेशा BJP को वोट क्यों देती है

उन्होंने आगे कि सत्ताधारी बीजेपी को इस लोकसभा चुनाव में आमजनता द्वारा बुरी तरह से नकारे जाने का ही परिणाम है कि अब बीजेपी वोट से नहीं बल्कि नोटों से ईवीएम की धांधली से, पुलिस/प्रशासन तंत्र के दुरुपयोग से, ईवीएम में चुनाव कर्मचारियों से ही बटन दबवाकर आदि धांधलियों से चुनाव जीतना चाहती है।

अब बीजेपी व इनके निरंकुश नेताओं को कम्बल ओढ़ कर घी पीते रहने के बजाए उन्हें चुनाव आयोग को यह बताना ही होगा कि कौन उद्योगपति/ धन्नासेठ चुनावी बाण्ड के रूप में उन्हें कितना अकूत धन दे रहा है तथा उनकी शान-शौकत, शाह खर्ची व चुनाव में धनबल के प्रयोग आदि का असली रहस्य क्या है?

बिजनौर में ‘हाथी’ का बटन दबाने पर ‘कमल’ को जा रहा है वोट, क्या EVM भरोसे है भाजपा?

बसपा सुप्रीमो ने आखिर में कहा कि दलित समाज के लोगों को पुलिस प्रशासन ने वोट डालने से रोका और साथ ही ईवीएम में भी गड़बड़ियां पाई गईं हैं। अगर इलेक्शन कमीशन इस पर कोई कदम नहीं उठाता है तो फिर लोकसभा चुनाव का कोई अर्थ नहीं रह जाएगा।