गुरुग्राम में पारंपरिक टोपी पहनने के लिये 25 साल के एक मुस्लिम युवक को चार अज्ञात लोगों ने पीटा। पीड़ित लड़के का नाम मोहम्मद बरकर आलम है। जोकि रहने वाला बिहार का है और जैकब पुरा इलाके में रहता है।

युवक ने बताया की जब वो नमाज पढ़कर लौट रहा था ठीक उसी वक़्त उसे सदर बाजार मार्ग पर चार अज्ञात लोगों ने उसे रोक लिया और पारंपरिक टोपी पहनने पर आपत्ति जतायी। उसने बताया कि आरोपियों ने उसे धमकी दी और कहा कि इस इलाके में इस तरह की टोपी पहनने की इजाजत नहीं है।

युवक का कहना था कि उन लोगो ने मेरी टोपी हटा दी और मुझे थप्पड़ मारे साथ ही उन्होंने ‘भारत माता की जय’ का नारा लगाने को भी कहा। उसने कहा, मैंने उनके आदेश का पालन किया और ‘भारत माता की जय’ का नारा लगाया लेकिन उन्होंने मुझे ‘जय श्रीराम’ का उद्घोष करने के लिये कहा, जिसे करने से मैंने इनकार कर दिया।

मुस्लिम युवक की पिटाई पर बोले संजय सिंह- सत्ता तो इसी रास्ते से मिलती है इसलिए ख़ामोश रहो

इस पर एक युवक ने सड़क किनारे पड़ी लाठी उठायी और बेरहमी से मुझे पीटना शुरू कर दिया। उन्होंने मेरे पैर और पीठ पर वार किया। इस घटना की आलोचना करते हुए दिल्ली से नवनिर्वाचित सांसद गौतम गंभीर ने सोशल मीडिया पर लिखा- हम धर्मनिरपेक्ष’ देश हैं। गंभीर ने ट्वीट करते हुए कहा गुरुग्राम में मुस्लिम युवक से टोपी उतारने और जय श्रीराम के नारे लगाने के लिए कहा गया।

यह निंदनीय है। गुरुग्राम प्रशासन की ओर से जरूरी कार्रवाई की जाए। हम एक धर्मनिरपेक्ष देश हैं, जहां जावेद अख्तर ‘ओ पालन हारे, निर्गुण और न्यारे’ लिखते हैं और राकेश ओम प्रकाश मेहरा दिल्ली-6 में ‘अर्जियां’ दिया है।