‘आर्थिक स्थिति गंभीर है, घाटा बढ़ रहा है और लोगों का विश्वास डोल रहा है। आर्थिक नुकसान से लोगों का ध्यान भटकाने के लिए सरकार केवल बदले की राजनीति में व्यस्त है। लोकतंत्र खतरे में है, बेहद खतरनाक तरीके से जनादेश का दुरुपयोग किया जा रहा है।’

ऐसा कहना है कांग्रेस अध्यक्षा सोनिया गांधी का जिन्होंने आज पार्टी की दोबारा कमान संभालने के बाद बैठक में ये बात कही।

सोनिया गांधी ने सुस्त अर्थव्यवस्था पर मोदी सरकार पर निशाना साधते हुए कहा कि मोदी सरकार आर्थिक हालात से देश का ध्यान भटकाने के लिए बदले की राजनीति का सहारा ले रही है। उन्होंने कहा कि कांग्रेस को आक्रामक रुख अपनाना होगा। केवल सोशल मीडिया पर एक्टिव रहने से काम नहीं चलेगा हमें और बेहतर करना होगा। सबसे महत्वपूर्ण है लोगों के बीच जाना होगा।

सोनिया ने कहा कि बीच में कुछ वक्त के लिए अंतराल आ गया था लेकिन अब हमारी ताकत का इम्तिहान है। सरकार आर्थिक हालात से देश का ध्यान भटकाने की कोशिश कर रही है।

बता दें कि कांग्रेस की इस बैठक में सोनिया गांधी के अलावा पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह, प्रियंका गांधी, अहमद पटेल, अशोक गहलोत, सचिन पायलट, गुलाम नबी आजाद, ज्योतिरादित्य सिंधिया समेत कई दिग्गज नेता बैठक में मौजूद रहे। इसके साथ ही बैठक में सभी महासचिव, प्रभारी, प्रदेश अध्यक्ष, विधायक दल के नेता बुलाए गए थे।