लोकसभा चुनावों में भारतीय जनता पार्टी (BJP) को मिली बंपर जीत को एआईएमआईएम चीफ असदुद्दीन ओवैसी ने विपक्ष की नाकामी बताया है। ओवैसी ने कहा कि विपक्षी पार्टियां जो ख़ुद को सेक्युलर कहती हैं, वह आरएसएस की हिंदुत्व विचारधारा को रोकने की स्थिति में नहीं हैं।

मीडिया से बात करते हुए ओवैसी ने कहा कि विपक्ष आरएसएस की हिंदुत्व विचारधारा को रोकने में पूरी तरह से नाकाम रहा है। इसके साथ ही उन्होंने कहा कि विपक्ष राष्ट्रवाद के मुद्देभआ पर भी बीजेपी का मुकाबला करने में विफल रहा।

मायावती का EC पर हमला- जब संस्थाए घुटने पर रेंग रही हैं तो आज जनता को उठ खड़ा होना होगा

प्रमुख विपक्षी पार्टी कांग्रेस पर निशाना साधते हुए ओवैसी ने कहा कि जहां भी क्षेत्रीय दल थे, BJP को रोक दिया गया। पार्टी 300 में से 177 सीटें वहां जीतने में सफल रही, जहां कांग्रेस उसके मुकाबले में थी। उन्‍होंने कहा, ‘इस परिणाम के बाद भी अगर कोई कहता है कि उनमें अकेले देश में सरकार चलाने या BJP को हराने का माद्दा है तो मुझे नहीं लगता कि इसका कोई अर्थ रह जाता है।’

इस दौरान औवैसी ने ईवीएम में धांधली के आरोपों को भी सिरे से खारिज किया। उन्होंने कहा कि उन्‍हें उम्मीद है अगर वीवीपैट पर्चियों का मिलान किया जाए तो ये 100 फीसदी सही निकलेंगी। उन्‍होंने कहा, ‘यह जनता का आदेश है और हम इसे स्‍वीकार करते हैं।

अगर आतिशी चुनाव में हारती हैं और प्रज्ञा ठाकुर जीत जाती हैं तो इससे पता चल जाएगा देश क्या चाहता है

एआईएमआईएम चीफ ने कहा कि 2019 का लोकसभा चुनाव एक बार फिर साबित करता है कि हिन्‍दू वोट बैंक रहा है और इसे हासिल करने के लिए हर कदम उठाया। यह ईवीएम में धांधली का मसला नहीं है, बल्कि यह हिन्‍दुओं के दिलो-दिमाग से छेड़छाड़ का नतीजा है।