उत्तर प्रदेश में कानून व्यवस्था पूरी तरह से धवस्त हो चुकी है। यहां आए दिन लूट, हत्या और बालात्कार की वारदातें सुर्ख़ियां बटोर रही हैं। सूबे में कानून व्यवस्था की बदहाली का ताज़ा मामला इलाहाबाद से सामने आया है। जहां एक वकील की गोली मारकर हत्या कर दी गई।

वकील सुशील कुमार पटेल को बदमाशों ने गोली रविवार रात फाफामऊ में गोहरी रेलवे क्रॉसिंग के पास मारी। बताया जा रहा है कि उनपर यह हमला उस वक्त हुआ जब वह ज़िला अदालत से निकलकर बाइक से घर जा रहे थे। वकील पर गोलियां चलाने के बाद बदमाश मौके से फरार हो गए। जिसके बाद पुलिस घायल वकील को लेकर एसआरएन अस्पताल पहुंची। लेकिन तब तक उनकी सांसें थम चुकी थीं।

UP में हरतरफ अफरा-तफरी, 2 दिन पहले बार काउंसिल अध्यक्ष बनी दरवेश यादव की दिन-दहाड़े हत्या

वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक अतुल शर्मा ने बताया कि वकील सुशील कुमार पटेल देर रात मोटर साइकिल से अपने गांव फाफामऊ जा रहे थे तभी कुछ अज्ञात हमलावरों ने रेलवे क्रसिंग के पास उन्हें ओवरटेक कर उन्हें गोलियों से छलनी कर दिया। जिसके बाद हमलावर अपनी मोटरसाइकिल पर भाग निकले।

उन्होंने बताया कि सभी हमलवार हेलमेट पहने हुए थे। इस मामले में सभी पुलिस थानों को चौकन्ना किया गया है। हमलावरों की तलाश जारी है। पुलिस का कहना है कि प्राथमिक जांच में पता चला है कि अतुल प्रॉपर्टी डीलिंग में भी शामिल थे और हत्या के पीछे का मकसद शायद प्रॉपर्टी का विवाद हो सकता है।

वकील की हत्या का यह कोई पहला मामला नहीं है। अभी दो हफ्ता पहले ही उत्तर प्रदेश बार काउंसिल की अध्यक्ष दरवेश यादव की आगरा जिला अदालत परिसर में एक वकील ने गोली मारकर हत्या कर दी थी।

महिला वकील की हत्या पर बोलीं मायावती- चुनाव जीतने के बाद UP में जंगलराज और भी ज्यादा बढ़ गया

उत्तर प्रदेश बार काउंसिल की पहली महिला अध्यक्ष दरवेश यादव के सम्मान में आगरा की दीवानी कचहरी में स्वागत समारोह आयोजित किया गया था। इसी दौरान उनकी गोली मारकर हत्या गर दी गई थी। दरवेश यादव को उनके पूर्व सहयोगी मनीष शर्मा ने गोली मारी थी। दरवेश यादव पर गोली चलाने के बाद मनीष शर्मा ने खुद को भी गोली मार ली थी। कई दिनों तक अस्पताल में भर्ती रहने के बाद उसकी भी मौत हो गई थी।