भारत के कई प्रधानमंत्रियों की प्रेस-वार्ताएं (PCs) हम लोगों ने‌ देखी हैं, कुछेक में पत्रकार के रूप में शामिल भी रहा! जहां तक मैं समझता हूं, इसे प्रधानमंत्री मोदी की उनके इस कार्यकाल की पहली और आखिरी प्रेस कांफ्रेंस कहना सही नहीं!

प्रधानमंत्री की प्रेसवार्ताएं PIB आयोजित करती है और उसमें देश के तमाम वरिष्ठ मान्यता प्राप्त पत्रकार शामिल होते हैं! वह आमतौर पर विज्ञान भवन या पीएम हाउस में होती है!

पार्टी मुख्यालय में होने वाली प्रेस कॉन्फ्रेंस पार्टी की होती है। उसमें आमतौर पर पार्टी-बीट ‘कवर’ करने वाले पत्रकार ही रहते हैं! फिर इसे प्रधानमंत्री की प्रेस कॉन्फ्रेंस कैसे कह सकते हैं?

यह सही है कि मोदी जी भाजपा मुख्यालय की प्रेसवार्ता में मौजूद रहे! पर प्रेस कॉन्फ्रेंस का अहम हिस्सा पार्टी अध्यक्ष अमित शाह के नाम रहा! शुरुआत उन्होंने की और समापन भी उन्होंने ही किया!

राहुल बोले- मोदी की PC में कमरे को बंद कर दिया गया है, सवाल पूछने वाले पत्रकारों का जाना मना है

हां, ये बात सही है कि प्रधानमंत्री मोदी ने संवाददाताओं के सामने पहली बार ‘मन की बात’ की! इससे पहले, वह रेडियो की अपनी रिकार्डिंग में किया करते थे!

अपने ‘मन की बात’ कहने के बाद प्रधानमंत्री मोदी ने एक भी सवाल नहीं लिया! उन्हें संबोधित कर सवाल पूछे गये पर उन्होंने जवाब देने से साफ इंकार किया! उन सवालों को उन्होंने पार्टी अध्यक्ष शाह को फारवर्ड कर दिया !

इसलिए मैं समझता हूं, प्रधानमंत्री मोदी ने अपने मौजूदा कार्यकाल (2014-2019) में प्रेस कॉन्फ्रेंस नहीं करने का रिकॉर्ड कायम रखा ! साझा प्रेस कॉन्फ्रेंस में आकर सिर्फ उन्होंने खानापूरी भर करने कोशिश की!

  • उर्मिलेश उर्मिल