• 237
    Shares

मध्य प्रदेश समेत पांच राज्यों में विधानसभा चुनाव हो रहे हैं। मध्य प्रदेश में 28 नवंबर को मतदान है। चुनावी पारा चरम पर है। प्रचार और बयानबाजी दोनों की रफ्तार तेज हो चुकी है।

चुनाव के मद्देनजर गोदी मीडिया भी नमक का कर्ज अदा करती नजर आ रही है। गोदी मीडिया की हर शाम हिंदू मुस्लिम डिबेट से सज रही है।

आलम ये है कि सत्ताधारी बीजेपी काम का हिसाब देने की जगह कांग्रेस का दो महीने पुराना वीडियो वायरल कर रही है। और मीडिया उस वीडियो पर हिंदू मुस्लिम एंगल से डिबेट कर रही है।

14 नवंबर की शाम आज तक के शो दंगल का मुद्दा था- सत्ता में आएंगे तो किसको निपटाएंगे? इस मुद्दें का ईजाद कांग्रेस नेता कमलनाथ की दो महीने पुरानी एक वीडियो से हुई है।

दरअसल 14 नवंबर की दोपहर बीजेपी प्रवक्ता ने इस वीडियो को ट्विटर पर शेयर किया था। शाम होते होते बीजेपी प्रवक्ता का शेयर किया हुआ वीडियो न्यूज चैनलों के लिए प्राइम टाइम डिबेट बन गया। इससे इतना तो साफ हो जाता है कि बीजेपी ही मीडिया के मुद्दें तय करने लगी है।

बता दें कि बीजेपी प्रवक्ता संबित पात्रा दो महीने पुरानी वीडियो शेयर करते हुए दावा किया कि कमलनाथ मुस्लिम रहनुमाओं से वादा कर रहे हैं कि चुनावों के बाद वह हिंदुओं से निपट लेंगे।

संबित पात्रा ने लिखा, “फैन्सी ड्रेस पहनने वाले हिंदुओं का एक बार फिर भांडा फूट गया है। कमलनाथ जी मुस्लिम उलेमा से वादा कर रहे हैं कि चुनाव के बाद कांग्रेस हिंदुओं से निपट लेगी। अभी के लिए मुसलमानों को कांग्रेस के साथ खड़ा होना चाहिए”।

हालांकि संबित पात्रा वीडियो को लेकर जो दावा कर रहे हैं वह पूरी तरह से ग़लत है। कांग्रेस नेता कमलनाथ ने इस वीडियो में कहीं भी हिंदुओं से निपटने की बात नहीं की। उन्होंने वीडियो में आरएसएस से निपटने की बात कही है, जिसे बड़ी ही चालाकी से पात्रा ने हिंदू कर दिया।

कांग्रेस नेता ने वीडियो में कहा, “उनका (आरएसएस) एक ही स्लोगन है। अगर हिंदू को वोट देना है तो हिंदू शेर को वोट दो। अगर मुस्लिम को वोट देना है तो कांग्रेस को वोट दो।

यह इनकी रणनीति है और इसमें आप सबको बड़ा सतर्क रहना पड़ेगा। आपको उलझाने की कोशिश करेंगे। हम निपट लेंगे इनसे बाद में पर मतदान के दिन तक आपको सबकुछ सहना पड़ेगा”।

भगवा हुई पत्रकारिता: अमन चोपड़ा ने तिलक लगाकर ‘ठोका साम्प्रदायिकता का ताल’

बीजेपी प्रवक्ता संबित पात्रा अपनी बहस की शैली के लिए कुख्यात हैं। किसी मुद्दें में हिंदू मुस्लिम ढूंढ लेने इनके सुपर पावर का हिस्सा है। अब यही सुपर पावर गोदी पत्रकारों को भी प्राप्त हो चुकी है।

सवाल उठता है कि क्या आज तक ने कमलनाथ के वीडियो को पूरा नहीं सुना था? दंगल के कुख्यात/विख्यात एंकर रोहित सरदाना खुद हिंदू मुसलमान कर रहे हैं और खुद सवाल भी पूछ रहे हैं कि चुनाव में हिंदू मुसलमान कौन कर रहा है?

कायदे से देखा जाए तो आज तक को संबित पात्रा से सवाल पूछना चाहिए कि वो फेक न्यूज क्यों फैला रहे हैं? जब कमल नाथ पूरे वीडियो में हिंदुओं की बात ही नहीं की फिर संबित पात्रा भ्रामक मैसेज क्यों शेयर कर रहे हैं?

कमलनाथ अपने वीडियो में आरएसएस के लिए कह रहे हैं कि ‘आपको उलझाने की कोशिश की जाएगी। हम निपट लेंगे इनसे बाद में पर मतदान के दिन तक आपको सबकुछ सहना पड़ेगा’ फिर ये सवाल कहां से आ गया कि सत्ता में आएगी तो किसे निपटाएगी कांग्रेस?

वीडियो देखकर साफ पता चल रहा है कि कमलनाथ आरएसएस की बात कर रहे हैं लेकिन रोहित सरदाना फिर भी पूछ रहे हैं कि कमलनाथ का बयान हिंदुओं के खिलाफ है या बीजेपी के? रोहित का ये सवाल उनकी दलाली की गवाही दे रहा है।

कमलनाथ ने कहीं भी हिंदुओं से निपटने की बात नहीं की। अब सवाल उठता है कि क्या आज तक बीजेपी और आरएसएस को हिंदुओं का पर्याय है मानती है? क्या जो हिंदू आरएसएस-बीजेपी से नहीं जुड़े हैं वो हिंदू नहीं हैं?

बैलेंस करने के नाम पर एक सवाल बीजेपी से भी पूछने की नौटंकी कर ली गई है। हालांकि पूरे डिबेट के दौरन कहीं भी पैनल में बैठे संबित पात्रा पर इसका जवाब देने के लिए दबाव नहीं बनाया गया।

रोहित सरदाना का अंतिम सवाल क्या कांग्रेस का हिंदू प्रेम चुनावी है? ये सवाल पूछने का रोहित सरदाना के पास पूरा अधि्कार है। क्योंकि रोहित पास हिंदू धर्म का टेंडर है, वो सच्चे हिंदू होने का सर्टिफिकेट बांटते हैं। ऐसे में उनका ये सवाल जायज है कि कांग्रेस असली हिंदू है या नहीं? यहां सवाल सिर्फ इतना है कि कांग्रेस के सच्चे हिंदू होने से मध्यप्रदेश चुनाव का क्या मतलब है?

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here