तस्वीर- साभार

कांग्रेस नेता उदित राज ने ईवीएम को लेकर चुनाव आयोग के साथ साथ सुप्रीम कोर्ट पर भी सवाल उठाए हैं। उन्होंने कल तो ईवीएम को लेकर एक बयान दिया जिसमें उन्होंने कहा कि BJP को जहां-जहां EVM बदलनी थी बदल ली होगी इसीलिए तो चुनाव सात चरणों मे कराया गया।

और आप की कोई नहीं सुनेगा चिल्लाते रहिए, लिखने से कुछ नहीं होगा, रोड पर आना पड़ेगा। अगर देश को इन अंग्रेजो के गुलामों से  बचाना है तो आन्दोलन करना पड़ेगा साहब चुनाव आयोग बिक चुका है।

इसके बाद फिर एक बार फिर उन्होंने सोशल मीडिया पर सुप्रीम कोर्ट पर सवाल उठाते हुए कहा कि सप्रीम कोर्ट क्यों नहीं चाहता की VVPAT की सारी पर्चियों को गिना जाए ? क्या वो भी धाँधली में शामिल है? चुनावी प्रक्रिया में जब लगभग तीन महीने से सारे सरकारी काम मंद पड़ा हुआ है तो गिनती में दो- तीन दिन लग जाए तो क्या फ़र्क़ पड़ता है।

गौरतलब हो कि सुप्रीम कोर्ट ने वीवीपैट के ईवीएम से 100 फीसदी मिलान की मांग वाली याचिका को ही खारिज कर दिया है। यही नहीं शीर्ष अदालत ने याचियों को फटकार लगाते हुए कहा था कि ऐसी अर्जियों को बार-बार नहीं सुना जा सकता।

बता दें कि सुप्रीम कोर्ट से झटका लगने के बाद 21 विपक्षी दलों के नेता चुनाव आयोग से 100 ईवीएम से वीवीपैट के मिलान की मांग को लेकर मिले थे। इसके अलावा कई जगहों पर ईवीएम की सुरक्षा का सवाल उठाया गया था। इस पर आयोग ने नेताओं से अपील की थी कि वे ईवीएम को लेकर भरोसे में रहें और मशीनें पूरी तरह से सुरक्षित हैं।