• 275
    Shares

सहारनपुर/देवबंद : रविवार को समाजवादी पार्टी (SP) बहुजन समाज पार्टी (BSP) राष्ट्रीय लोक दल (RLD) की सहारनपुर के देवबंद Deoband में संयुक्त रैली हुई। इस रैली का मकसद तीनों पार्टियों को यूपी में अपनी एकजुटता दिखाना है। वहीं पश्चिमी यूपी में गठबंधन के लिए सबसे बड़े निर्णायक वोट बैंक दलित, मुस्लिम और जाटों को भी एक साथ लाना है।

‘लोकसभा यात्रा’ पर निकली ‘बोलता हिंदुस्तान’ की टीम ने इस रैली में पहुँचकर लोगों से बात की। सहारनपुर के एक किसान ने कहा कि, “यहाँ गठबंधन का प्रत्याशी डेढ़ लाख की मार्जिन से जीतेगा, क्योंकि पीएम मोदी ने कुछ किया नहीं है उनके सारे वादे झूठे निकले हैं। इस सरकार ने हमारी पेंशन काट ली, बैंको से पैसे काट लिए गरीब आदमी को बेकार कर दिया। इसलिए इस बार मोदी नहीं जीतेगा।”

क्या सपा-बसपा-आरएलडी के लोग एक दूसरे को वोट ट्रांसफर करवा पाएंगे के सवाल पर एक किसान ने कहा कि, “ज़मीन पर ये गठबंधन सबको स्वीकार है। हमें चाहे कोई भी भड़काए हम वोट गठबंधन के प्रत्याशी को ही देंगे।”

रैली में आए एक दूसरे शख्स ने कहा कि, मोदी सरकार में दलितों और मुसलमाओं का उत्पीड़न किया गया है, संविधान पर इन्होने डांका डाला है, इस सरकार ने मुस्लिमों के अंदर डर पैदा कर दिया है।”

इसके अलावा एक युवा ने कहा कि, “यहाँ आसपास के आठ जिलों से लोग आए हैं, ये गठबंधन उनके मुँह पर तमाचा है जो हमें पांच साल तक गफलत में डाले रहे। इस समय वतनपरस्त नेता की जरुरत है वो हमारे बीच का हो हमारी बात सुने, लंदन फ्रांस की बातें न करे कोट पहन कर ना घुमे। हमें बेरोजगारी से दूर करने के लिए नौकरी दे ऐसा नेता चाहिए।”

बता दें कि पश्चिमी यूपी में पहले चरण के मतदान के अंतर्गत 11 अप्रैल को वोट डाले जाएंगे।