• 1.1K
    Shares

पिछली बार के लोकसभा चुनाव के बाद पश्चिमी उत्तर प्रदेश सबसे ज्यादा प्रभावित रहा। एक तरफ जहां देश में बीफ को लेकर बहस छिड़ी वहीं दादरी हत्याकांड में मारे अखलाक पर भी जमकर सियासत हुई थी।

अब चुनाव के वक़्त अखलाक के परिवार को ही वोट देने से वंचित कर दिया गया है। बीएलओ का कहना है कि अब वहां कोई नहीं रहता है तो इसलिए किसी का नाम लिस्ट में नहीं है।

दरअसल साल 2015 में यूपी के ग्रेटर नोएडा के दादरी इलाके में गोमांस रखने की अफवाह की वजह से लोगों ने अखलाक नाम के शख्स की पीट-पीटकर हत्या कर दी गई थी, इस घटना में अखलाक के बेटे को भी गंभीर चोट आई थी।

21 लाख महिलाओं के नाम वोटर लिस्ट से गायब, क्या महिला वोटरों से डर गए हैं मोदी ?

वहीं अब बीएलओ का कहना है कि नोएडा के बिसाहड़ा गांव में अखलाक के पूरे परिवार का नाम वोटर लिस्ट में नहीं है। इसकी वजह है की बीते कई महीने से उस घर में कोई सदस्य नहीं रह रहा था।

बता दें कि वोटिंग लिस्ट में नाम न होने की जानकारी तब सामने आई जब परिवार के लोग वोट डालने मतदान स्थल पर पहुंचे। गौतमबुद्धनगर संसदीय सीट पर भी पहले चरण में वोटिंग हो रही है। जहां दोपहर 1 बजे तक 61 फीसदी मतदान हो चुका है। नोएडा विधानसभा क्षेत्र नोएडा में 35 फीसदी मतदान, दादरी में 43% मतदान हुआ है।