• 11.7K
    Shares

बुलंदशहर हिंसा मामले पर कई सवाल उठने लगे है। जिस तरह से पुलिस ने खुद आईजी क्राइम एसके भगत ने कहा कि घटनास्थल से जो मांस और हड्डियों के टुकड़े बरामद किए गए हैं वो शुरूआती जांच में 48 घंटे पुराने मालूम होते हैं।

उन्होंने बताया कि घटना स्थल से जो हड्डिया मिली है उनसे गोमांस होने की भी पुष्टि नहीं हुई है। अगर कोई जानवर काटा भी गया है तो वो 1 दिसंबर की शाम की घटना है। जबकि योगेश का दावा है कि उसने 3 दिसंबर की सुबह 9 बजे गोकशी होते देखी थी।

इस खुलासे पर आम आदमी पार्टी के सांसद संजय सिंह ने सीएम योगी और बीजेपी को आड़े हाथों लिया है उन्होंने सोशल मीडिया पर लिखा,

4 साल में जो ज़हर पैदा किया गया ‘बुलंदशहर’ उसका नतीजा है, ये नफ़रत की आग आपका घर भी ख़ाक कर देगी : रवीश कुमार

अगर 3 दिसंबर को सुबह 9 बजे गाय काटी ही नही गई तो झूठी FIR क्यों लिखी गई? योगी जी बताओ गाय किसने काटी? अपनी घिनौनी राजनीति के लिए क्या- क्या करोगे भाजपाईयों “भाजपा से सावधान वरना नही बचेगा हिंदुस्तान।

बता दें कि बुलंदशहर की स्याना तहसील में सोमवार की सुबह कथित गोवंश हत्या के खिलाफ प्रदर्शन कर रही भीड़ की पुलिस से हिंसक भिड़ंत हो गई थी।

बुलंदशहर में पुलिस पर पथराव करने वाले सुमित के परिवार को 10 लाख क्यों दिया गया, क्या सरकार उसे हीरो मानती है?

इसमें भीड़ ने इंस्पेक्टर सुबोध कुमार की हत्या कर दी थी और पुलिस चौकी में आग लगा दी थी। मामले की जांच के लिए एसआईटी का गठन किया जा चुका है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here