• 163
    Shares

चुनाव की तारीखें तय हो गई हैं लेकिन बीजेपी अपने चुनावी कैंपेन का नारा तय नहीं कर पा रही है। ‘मोदी है तो मुमकिन है’ से शुरू हुआ BJP का चुनाव प्रचार फिलहाल ‘मैं भी चौकीदार’ पर पहुंच चुका है।

क्या पूरे चुनाव यहीं नारा रहेगा? पता नहीं। ‘मोदी है तो मुमकिन है’ क्यों दब गया? पता नहीं। क्या लोगों को भरोसा नहीं हुआ कि ‘मोदी है तो मुमकिन है’? हो सकता है ‘चाय वाले’ से ‘चौकीदार’ बने मोदी आने वाले दिनों में कुछ और बन जाएं!

ख़ैर, नरेंद्र मोदी ट्विटर पर ‘चौकीदार नरेंद्र मोदी’ हो चुके हैं। पीएम के साथ-साथ मोदी सरकार के तमाम मंत्री, BJP नेता, कार्यकर्ता, समर्थक और ट्विटर के खलिहर लोग भी अपने नाम के आगे ‘चौकीदार’ लगा चुके हैं। विदेश मंत्री लेकर रक्षा मंत्री तक, वित्त मंत्री से लेकर कानून मंत्री तक सब चौकीदार बन चुके हैं।

जो BJP 10 दिन में अपनी हैक हुई वेबसाइट नहीं सही कर पाई वो कहती है EVM हैक नहीं हो सकती

ये बात अलग है कि इन तमाम चौकीदारों के रहते हुए नीरव मोदी, विजय माल्या, मेहुल चौकसी..आदि जैसे चोर भारतीय बैंकों को लूटकर विदेश शिफ्ट हो चुके हैं।

देश की बैंक और मंत्रालय तो बहुत बड़ी जिम्मेदारी है। बीजेपी के ये चौकीदार तो अपनी अधिकारिक वेबसाइट तक की सुरक्षा नहीं कर पाते। बीजेपी आईटी सेल की मुखिया हैं अमित मालवीय।

फेक न्यूज फैलाने के लिए कुख्यात अमित मालवीय भी ट्विटर पर ‘चौकीदार अमीत मालवीय’ बन चुके हैं। तो ‘चौकीदार अमीत मालवीय’ की जिम्मदारी है बीजेपी को डिजिटल दुनिया में सुरक्षित रखना। अब इनकी चौकीदारी के स्तर अंदाजा आप इस बात से लगा लीजिए कि बीजेपी की आधिकारिक वेबसाइट हैकिंग के कारण 5 मार्च से बंद है।

पुण्य प्रसून को फिर से निकाल दिया गया है, अब वही बचेगा जो ‘गोदी मीडिया’ होगा : रवीश कुमार

‘चौकीदार अमीत मालवीय’ के रहते बीजेपी की वेबसाइट हैक हो गई और अभी तक बंद ही है। अमीत मालवीय के नाम बदलने पर वरिष्ठ पत्रकार स्वाति सिंह ने लिखा है ‘और, यह चौकीदार अपनी BJP साइट की रखवाली भी नहीं कर सकता है। अब कितने दिन हो गए?’

बता दें कि 5 मार्च की सुबह वेबसाइट के हैक होने के बार में पता चला। सुबह 11 बजकर 30 मिनट पर जब वेबसाइट खोली गई तो इसमें पीएम मोदी और जर्मनी की चांसलर एंजेला मर्केल का एक वीडियो नज़र आ रहा था। साथ ही वीडियो के ऊपर कुछ अभद्र भाषा भी लिखी हुई थी।

इसके बाद से वेबसाइट डाउन हो गई है। इंटरनेट पर www.bjp.org सर्च करने पर अंग्रेजी में ‘वी विल बैक सून’ लिखा आ रहा है।

इसके अलावा यूपी की up.bjp.org और दिल्ली की delhi.bjp.org साइट भी डाउन है। इतना कुछ होने के बाद भी BJP का कहना है कि उनकी वेबसाइट हैक नहीं हुई है, कुछ तकनीकी दिक्कत आयी है बस।