• 1.8K
    Shares

बुलंदशहर में हुई हिंसा के बाद से सूबे की योगी सरकार विपक्षियों के निशाने पर है। विपक्षी नेता सीधे तौर पर इस घटना के लिए मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को ज़िम्मेदार ठहरा रहे हैं। विपक्षियों का मानना है कि यह घटना दंगाइयों को सरकारी संरक्षण देने का नतीजा है।

अब स्वराज इंडिया के उपाध्यक्ष अनुपम ने इस घटना पर टिप्पणी करते हुए सीएम योगी पर निशाना साधा है।

उन्होंने इस हिंसा में हुई इंस्पेक्टर सुबोध कुमार की हत्या के लिए बीजेपी और सीएम योगी को ज़िम्मेदार ठहराते हुए लोगों से धर्म के नाम पर नफ़रत फैलाने वाले नेताओं का बहिष्कार करने की अपील की।

योगी जी आपके ‘अली-बजरंगबली’ का नतीजा है बुलंदशहर कांड, भड़काना बंद करो और यूपी संभालो- रुबिका लियाकत

उन्होंने ट्विटर के ज़रिए कहा, “इंस्पेक्टर सुबोध की हत्या किसी व्यक्ति ने नहीं, उन नेताओं और पार्टी ने किया है जिन्होंने धर्म के नाम पर नफ़रत फैलाकर हमारे समाज को बेलगाम भीड़ का रूप दे डाला है! अगर अपने देश और समाज को बचाना है तो ऐसी बेलगाम भीड़ को शह देने वालों को पहचानिए और इनका बहिष्कार करिए”।

अनुपम ने आगे लिखा, “नफ़रत फैलाने वाला दंगाई कभी ‘योगी’ नहीं हो सकता, चाहे अपना नाम बदल ले, चाहे कोई भी वस्त्र धारण कर ले”!

इसके साथ ही स्वराज इंडिया नेता ने एक और ट्वीट कर लिखा, “मुख्यमंत्री जब हैदराबाद जाकर ओवैसियों के साथ रिलीजन-रिलीजन खेलेगा, तो प्रदेश में उसके सड़क छाप गुंडे दंगा-दंगा ही खेलेंगे न”!

इससे पहले शहीद इंस्पेक्टर सुबोध कुमार सिंह की बहन ने भी मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से नाराज़गी ज़ाहिर करते हुए कहा था कि उनके भाई की हत्या सीएम के गाय-गाय करने का नतीजा है।

बता दें कि बुलंदशहर की स्याना तहसील में सोमवार की सुबह कथित गोवंश हत्या के खिलाफ प्रदर्शन करते हुए हिंदूवादी संगठन के लोगों ने पुलिस पर हमला बोल दिया था।

मोदी ‘श्मशान-कब्रिस्तान’ करते हैं और योगी ‘अली-बजरंगबली’ की, अब विकास की बात कौन करेगा ?

हमले में इंस्पेक्टर सुबोध कुमार की बेरहमी से पिटाई के बाद गोली मारकर हत्या कर दी गई थी और पुलिस चौकी को आग को हवाले कर दिया गया था। इस मामले में बजरंग दल के ज़िला संयोजक योगेश राज को मुख्य आरोपी बनाया गया था, जो अभी फरार है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here