• 44K
    Shares

अयोध्या में राम मंदिर निर्माण को लेकर एक बार फिर भीड़ इकट्ठा होने लगी है। शिवसेना और विश्व हिंदू परिषद के कार्यकर्ताओं के साथ ही सत्तारूढ़ बीजेपी के कई बड़े नेताओं ने मौके पर मोर्चा संभालते हुए भड़काऊ बयान देना शुरु कर दिया है।

इलाके में बढ़ती भीड़ के मद्देनज़र माहोल के बिगड़ने की आशंका जताई जा रही है। सोशल मीडिया में आई ख़बरों की मानें तो अयोध्या में हिंसा फैलाने के तमाम इन्तेज़ाम भी किए जा रहे हैं।

बताया जा रहा है कि इलाके में बड़ी मात्रा में आधुनिक असलहे इकट्ठा किए जा रहे हैं। साथ ही लोगों से मंदिर निर्माण के विरोधियों को सबक सिखाने की अपील भी की जा रही है।

रिलायंस के प्लेन से अयोध्या पहुंचे ठाकरे, लोग बोले- अंबानी ‘राफेल घोटाला’ भी करता है, दंगे भी करवाता है

अयोध्या में बढ़ती भीड़ पर विपक्षी नेताओं से लेकर देश की कई मशहूर हस्तियों तक ने चिंता व्यक्त की है। यूपी के पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने तो हिंसा का अंदेशा ज़ाहिर करते हुए सुप्रीम कोर्ट से इलाके में सेना तैनात करने की मांग तक कर डाली है। लेकिन प्रशासन की तरफ़ से हुड़दंगियों को रोकने के कोई प्रयास नहीं किए जा रहे।

वहीं लेखक एवं समाजसेवी डॉ राम पुनियानी का मानना है कि अगर अयोध्या में हिंदुओं की जगह मुसलमान मस्जिद बनाने के नाम पर इकट्ठा हो रहे होते तो अब तक उन्हें रोकने के लिए पेलेट गन का इस्तेमाल किया जा चुका होता।

उन्होंने ट्वीट कर लिखा, “जितने भी कट्टर हिन्दू संगठन थे सब के सब अयोध्या में हुड़दंग मचाने पहुँच गये वो भी बिना प्रशासन की इजाज़त किसी को कोई परवाह नहीं! 

अयोध्या में ‘हिंदू-मुस्लिम’ दंगे कराने से राम मंदिर तो नहीं बनेगा लेकिन 2019 में BJP के लिए माहौल बन जाएगा : पंखुड़ी पाठक

अगर मुसलमान मस्जिद बनाने के नाम पर इसी तरह अयोध्या में इकठ्ठा हो जाते तो अब तक पेलेट गन का इस्तेमाल कर हज़ारो मुसलमानों को अँधा कर दिया होता”!