• 875
    Shares

चुनाव नज़दीक है। कार्यकाल लगभग खत्म हो चुका है। 2014 के चुनाव में किए गए एक भी वादों को पूरा नहीं किया गया है। घोषण पत्र का भी कोई वादा पूरा नहीं हुआ है। ऐसे में 2019 का लोकसभा चुनाव लड़ने के लिए BJP के पास राष्ट्रवाद, मोदी और चौकीदार कैंपेन के अलावा ज्यादा कुछ नहीं है।

पुलवामा और एयर स्ट्राइक के नाम पर वोट मांगने के बाद अब चौकीदार-चौकीदार हो रहा है। ख़ैर जमीन पर इसका ज्यादा असर दिख नहीं है। ऐसे में शायद BJP फिर राष्ट्रवाद को मुद्दा बनाना चाहती है।

हाल में उत्तर प्रदेश की योगी सरकार द्वार उठाए गए कुछ कदम इसी तरफ इशारा कर रहे हैं। दरअसल योगी सरकार ने सोशल मीडिया पर मोदी सरकार के खिलाफ टिप्पणी करने की वजह से सात सरकारी शिक्षकों को निलंबित कर दिया है।

फेसबुक और व्हाट्सऐप पर पुलवामा हमले, बालाकोट एयरस्ट्राइक और केंद्र सरकार की आलोचना करने के आरोप में अलग अलग जिलों के सात सरकारी शिक्षकों निलंबित किया गया है। वहीं एक निजी स्कूल के शिक्षक के ख़िलाफ़ FIR दर्ज करने का आदेश दिया गया है।

  1. 21 फरवरी को मुजफ्फरनगर के बेसिक शिक्षा अधिकारी (बीएसए) दिनेश यादव को निलंबित किया गया। उनपर आरोप है कि उन्होंने पुलवामा हमले पर सवाल उठाते हुए सरकार पर संदेह जताया। साजिश की आशंका जातायी। अब संदेह करने पर से किसी जेल भेज देना कहां तक सही है इसका जवाब तो कोर्ट देगा।

2. 27 फरवरी को बाराबंकी के प्राइमरी स्कूल हेडमास्टर सुरेंद्र कुमार को निलंबित कर दिया गया। सुरेंद्र कुमार      बीएसए वीपी सिंह ने निलंबित किया। सुरेंद्र कुमार पर भी आरोप है उन्होंने पुलवामा हमले को लेकर सवाल खड़े किए। हद मतलब अब सवाल करना चर्चा करना दूभर हो गया है।

3. 2 मार्च को सुल्तानपुर के प्राइमरी स्कूल सहायक शिक्षक अमरेंद्र कुमार को इमरान खान की तारीफ करने का आरोप में निलंबित कर दिया गया है। अमरेंद्र कुमार का निलंबन बीएसए कौस्तुभ कुमार ने किया है।

4. 6 मार्च को रायबरेली के प्राइमरी स्कूल सहायक शिक्षक रविंद्र कनौजिया को बालाकोट एयर स्ट्राइक से जुड़े एक पोस्ट को साझा करने के आरोप में निलंबित कर दिया गया। निलंबन का आदेश बीएसए पीएन सिंह ने दिया।

5. 22 फरवरी को मिर्जापुर के प्राइमरी स्कूल हेडमास्टर रविशंकर यादव को राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद के खिलाफ आपत्तिजनक टिप्पणी के आरोप में निलंबित कर दिया गया। निलंबित करने वाले बीएस का नाम प्रवीण तिवारी

6. 22 फरवरी को ही आज़मगढ़ के प्राइमरी स्कूल सहायक शिक्षक नंदजी यादव को सीएम योगी और पीएम मोदी के खिलाफ आपत्तिजनक टिप्पणी करने के आरोप में में निलंबित कर दिया गया। निलंबित करने वाले बीएस का नाम है देवेंद्र पांडे।

7. 16 मार्च को रायबरेली प्राइमरी स्कूल हेडमास्टर निरंकार शुक्ला को आचार संहिता के उल्लंघन के आरोप में निलंबित कर दिया गया है। निलंबित करने वाले बीएस का नाम है पीएन सिंह।

23 मार्च को शाहजहांपुर के निजी इंटर कॉलेज में पढ़ाने वाले दिलीप सिंह यादव को सांप्रदायिकता, जाति, राजनीति और धार्मिकता आधारित आपत्तिजनक टिप्पणी करने के आरोप में एफआईआर दर्ज करने का आदेश दिया गया है। दिलीप सिंह यादव बिना वेतन के बच्चों को शिक्षा देने का काम करते थे। एफआईआर का आदेश एसडीएम अशोक कुमार ने दिया है।