• 2K
    Shares

जम्मू कश्मीर (jammu and kashmir) की विधानसभा को भंग कर दिया गया है। विधानसभा को भंग किए जाने से पहले सूबे की पूर्व मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती ने कांग्रेस और नेशनल कॉंफ्रेंस के साथ मिलकर सरकार बनाने का दावा किया था लेकिन यह दावा औपचारिक तौर पर राजभवन तक नहीं पहुंच सका था।

जिस वक्त सरकार बनाने के दावे को लेटर के रूप में फैक्स के ज़रिए राजभवन भेजा गया उस वक्त राजभवन की फैक्स मशीन खराब थी, जिसके चलते सूबे के राज्यपाल सत्यपाल मलिक (satya pal malik) तक दावा नहीं सौंपा जा सका।

इसी बीच राज्यपाल ने तत्काल प्रभाव से सूबे की विधानसभा को भंग करने का भी ऐलान कर दिया। जिसके बाद से इस पूरे मामले पर सवाल उठने लगे।

विपक्षी नेताओं से लेकर देश की कई मशहूर हस्तियों ने फैक्स मशीन के ख़राब होने पर कटाक्ष करते हुए केंद्र की मोदी सरकार पर जमकर हमला बोला।

राज्यपाल ने भंग कर दी जम्मू कश्मीर की विधानसभा, यशवंत सिन्हा बोले- BJP ने संविधान को ताक पर रख दिया है

इसी क्रम में अब पत्रकार रवीश कुमार ( Ravish kumar) ने राजभवन की फैक्स मशीन के ख़राब होने पर तंज़ कसा है उन्होंने इंजीनियरिंग के छात्रों को संबोधित करते हुए कहा कि अगर आप टेक्नोलॉजी के छात्र हैं तो एक ऐसी फैक्स मशीन भी बनाइये जो शाम सात बजे के बाद भी ख़राब न हो।

दरअसल, रवीश कुमार ग्वालियर के आईटीएम यूनिवर्सिटी के दीक्षांत समारोह में वक्ता के तौर पर बुलाए गए थे। इस समारोह के मुख्य अतिथि जम्मू कश्मीर के राज्यपाल सत्यपाल मलिक थे।

यहां जब रवीश कुमार ने छात्रों से संबोधन शुरु किया तो उन्होंने वहां मौजूद राज्यपाल पर निशाना साधते हुए कहा, “आप टेक्नालजी के छात्र हैं तो गटर की सफाई की मशीन पर ध्यान दीजिए और एक ऐसी फैक्स मशीन भी बनाइये जो शाम सात बजे के बाद भी ख़राब न हो”।

जज लोया की ख़बर आज फिर ज़िंदा हो गई है, मीडिया चुप्पी साधेगा या अमित शाह से सवाल करेगा? : रवीश कुमार

रवीश ने अपनी इस बात को रखते हुए छात्रों को लोकतंत्र की खूबसूरती भी समझाई। उन्होंने कहा, “यह बात मैंने क्यों कहीं? मैं चाहता तो अपने विशिष्ठ अतिथि के सम्मान में इस बात को किनारे रख सकता था, मगर यह बात मैंने इनके सामने ही कही क्योंकि यही लोकतंत्र है”।

उन्होंने आगे कहा, “मुझे इन पर पूरा भरोसा है कि यह मुझे कभी नहीं कहेंगे कि रवीश कुमार ने यह बात आईएसआई के इशारे पर कही है। यह लोकतंत्र हैं। आपका सवाल जिनसे होता है आप उन्हीं से मुखाबित होते हैं”।