• 1.3K
    Shares

देश में ‘चौकीदार’ पर छिड़ी बहस के बीच दो धुरी है एक खाए-पीए चौकीदारों की टोली हैं जिसमें प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी से लेकर उनकी पूरी कैबिनेट और बीजेपी नेता शामिल हैं। दूसरी तरफ वो चौकीदार हैं जो चंद पैसों के लिए दिन-रात फैक्ट्रियों और लोगों के गेट पर चौकीदारी करते हैं।

लेकिन फिर भी प्रधानमंत्री मोदी अपने आपको देश का सबसे बड़ा चौकीदार बता रहे हैं और उनकी पूरी कैबिनेट मंत्री उनके नक़्शे कदम पर चलकर वो भी अपने को चौकीदार बता रहे हैं। मगर, इन सबके बीच प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की चौकीदारी में राफेल विमान में 30,000 करोड़ की चोरी हो जाती है। लेकिन, चौकीदार कुछ कर नहीं कर पाते। अगर यही किसी सचमुच के चौकीदार के रहते चोरी हो जाती तो अबतक उसकी नौकरी चली जाती!

बता दें कि राफेल विमान में हुए भ्रष्टाचार के बाद कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गाँधी ने पीएम मोदी को घेरना शुरू किया। राहुल अपनी सभी रैलियों और प्रेस कांफ्रेंस में पीएम को पुकारने लगे कि ‘चौकीदार चोर है’। इसी के चलते आम लोग के मुँह पर भी चढ़ने लगा था और वो भी ‘चौकीदार चोर है’ बोलने लगे थे।

इतने में प्रधानमंत्री मोदी से बाजी पलटने हुए मुहीम चला दी ‘मैं भी चौकीदार’। सभी केंद्रीय मंत्री, भाजपा नेता, कार्यकर्ता सोशल मीडिया पर अपने नाम से पहले चौकीदार लगा रहे हैं। अब बहस पुलवामा से होते चौकीदार पर आ चुकी है।

लोकसभा चुनाव होने में अब चंद दिन ही बचे हैं। लोग चौकीदार के बारे में बात करने लगे हैं। बात में पक्ष-विपक्ष दोनों शामिल है। ग्रामीण क्षेत्रों में जाने पर पता चल रहा है कि लोग अब पीएम मोदी की चौकीदारी मुहीम के बारे में बात करने लगे हैं। इसी के चलते टीवी पत्रकार प्रशांत कुमार यूपी के मिर्ज़ापुर पहुंचे। यहाँ लोगों से बात करते हुए प्रशांत ने एक वीडियो बनाकर ट्वीटर पर शेयर किया है।

इस वीडियो में लोगों से सवाल किया गया है कि, प्रधानमंत्री और उनके मंत्रियों ने अपने नाम के आगे चौकीदार लगा लिया है आप इसको कैसे देखते हैं? इसपर लोगों ने जवाब देते हुए कहा कि, “अब भारत में कुछ बचा नहीं है तो सब चौकीदारी ही करेंगे। असल में कांग्रेस देती थी डॉक्टर, इंजीनियर और चौकीदार इतने बड़े बड़े लोग हैं तो पीएमओ से राफेल की फाइलें गायब हो जा रही हैं हमला हो जा रहा है कई लोग शहीद हो जा रहे हैं।”