बसपा सुप्रीमो मायावती ने बीजेपी पर आरोप लगाते हुए चुनाव आयोग पर सवाल खड़े किए हैं। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को जितवाने के लिए बाहरी लोग वाराणसी में घर-घर में जाकर लोगों को धमकी व लालच दे रहे हैं और चुनाव आयोग खामोश है।

मायावती ने ट्वीट कर लिखा, ‘‘पीएम श्री नरेन्द्र मोदी को वाराणसी में हर हाल में जितवाने की कोशिश में वहाँ की हर गली-कूचे व घर-घर में जो बाहरी लोगों के माध्यम से पहले लालच और फिर धमकी आदि दी जा रही है, उससे वहाँ मतदान स्वतंत्र व निष्पक्ष कैसे हो पाएगा? चुनाव आयोग की बंगाल की तरह वाराणसी पर नजर क्यों नहीं है?”

इससे पहले गुरुवार को मायावती ने पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी को अपना समर्थन दिया था। उन्होंने पश्चिम बंगाल के मौजूदा हालात के लिए बीजेपी व आरएसएस को जिम्मेदार ठहराने के साथ ही वहां चुनाव प्रचार एक दिन पहले ही रात 10 बजे से बंद करने के लिए चुनाव आयोग की निंदा भी की।

BJP वालों के लटके चेहरे बता रहे हैं कि 23 मई के बाद मोदी और उनके चेलों के ‘बुरे दिन’ शुरू हो जाएंगे

उन्होंने आरोप लगाते हुए कहा कि चुनाव आयोग ने केंद्र के दबाव में आकर पश्चिम बंगाल में एक दिन पहले प्रचार पर रोक लगाने का फैसला किया है। उन्होंने कहा कि यह बहुत दुख की बात है कि वहां पीएम की रैलियां खत्म होने के बाद रात 10 बजे से यह रोक लगाई गई है।

उन्होंने कहा कि यदि प्रतिबंध लगाना था तो सुबह से ही लगाना चाहिए था। मायावती ने कहा है कि वर्तमान मुख्य चुनाव आयुक्त (सीईसी) के रहते हुए लोकसभा चुनाव स्वतंत्र व निष्पक्ष नहीं हो पा रहा है। यह अति शर्मनाक है।