महात्मा गांधी के हत्यारे नाथूराम गोडसे को देशभक्त बताने वाले साध्वी प्रज्ञा सिंह ठाकुर के बयान की प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आलोचना की है। उन्होंने कहा कि वह इस बयान के लिए प्रज्ञा सिंह को कभी दिल से माफ नहीं कर पाएंगे।

बीजेपी के आधिकारिक ट्विटर अकाउंट से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का बयान जारी किया गया। प्रधानमंत्री ने कहा है कि महात्मा गांधी और नाथूराम गोडसे को लेकर जो भी बातें की गईं हैं, वो भयंकर खराब हैं। उन्होंने कहा कि ये बातें पूरी तरह से घृणा के लायक हैं, सभ्य समाज के अंदर इस प्रकार की बातें नहीं चलती हैं।

पीएम मोदी ने कहा कि भले ही इस मामले में उन्होंने (साध्वी प्रज्ञा) माफी मांग ली हो, लेकिन मैं अपने मन से उन्हें कभी भी माफ नहीं कर पाऊंगा। बता दें कि साध्वी प्रज्ञा ने गुरुवार को पत्रकारों से बातचीत के दौरान महात्मा गांधी के हत्यारे नाथूराम गोडसे का महिमामंडन करते हुए उसे देशभक्त बता दिया था।

गोली मारो, गाली दो और बाद में माफ़ी मांग लो, गोडसे ने गांधी को एक बार मारा था, BJP रोज़ मार रही है

साध्वी प्रज्ञा ने कहा था, “नाथूराम गोडसे देशभक्त थे और हमेशा रहेंगे। वैसे लोग जो उन्हें आतंकी कह रहे हैं उन्हें खुद के अंदर झांक कर देखना चाहिए। ऐसे लोगों को चुनाव के बाद जवाब मिल जाएगा।”

साध्वी प्रज्ञा के इस बयान पर बीजेपी को चौतरफा आलोचना का सामना करना पड़ा था। जिसके बाद बीजेपी ने साध्वी प्रज्ञा को फटकार लगाते हुए उनसे माफी मांगने के लिए कहा था। इसके कुछ ही घंटों बाद ही साध्वी प्रज्ञा ने अपने इस बयान को वापस लेते हुए इसे निजी बयान बताया और इसके लिए माफी मांग ली थी।

हालांकि साध्वी प्रज्ञा की इस माफी पर मोदी के मंत्री अनंत कुमार हेगड़े ने आपत्ति जताई। उन्होंने महात्मा गांधी का अपमान करते हुए कहा कि गोडसे पर माफी मांगने की ज़रूरत नहीं।

हेगड़े ने शुक्रवार को ट्वीट कर कहा, “मुझे खुशी है कि 7 दशक बाद आज की पीढ़ी एक बदले हुए वैचारिक माहौल में बहस करती है और निंदा की जाने की अच्छी गुंजाइश देती है। नाथूराम गोडसे को भी आखिरकार इस बहस से खुशी हुई होगी।” उन्होंने कहा, “अब समय आ गया है कि हम क्षमा मांगने के दौर से आगे बढ़ें। अगर अभी नहीं तो…कब।”

BJP वालों के लटके चेहरे बता रहे हैं कि 23 मई के बाद मोदी और उनके चेलों के ‘बुरे दिन’ शुरू हो जाएंगे

पीएम मोदी ने बयान जारी कर ज़रूर साध्वी प्रज्ञा के बयान से किनारा कर लिया हो और उन्हें न माफ करने की बात कर रहे हों, लेकिन अभी तक उन्होंने साध्वी प्रज्ञा के खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं की है। इसके अलावा अनंत कुमार हेगड़े के बयान पर भी कोई प्रतिक्रिया देखने को नहीं मिली है।

इसपर पत्रकार कादम्बिनी शर्मा ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को घेरते हुए सवाल किया है। उन्होंने ट्विटर के ज़रिए पूछा, “लेकिन प्रज्ञा और हेगड़े पर कोई सख़्त कार्रवाई क्यों नहीं? माफ़ नहीं करना काफ़ी नहीं…”।