पंजाब एंड महाराष्ट्र बैंक (PMC Bank) घोटाले को लेकर खाताधारकों की मौत का सिलसिला जारी है। बीते कुछ दिनों में हुई चार खाताधारकों की मौत के बाद अब इस मामले में एक और खाताधाराक भारती सदारंगी की सोमवार को दिल का दौरा पड़ने से मौत हो गई।

ख़बरों के मुताबिक, भारती सदारंगी सोलापुर की रहने वाली एक बुज़र्ग महिला थीं। बताया जा रहा है कि उनकी बेटी और दामाद के करीब ढाई करोड़ रुपए पीएमसी बैंक में जमा थे और उन रुपयों को लेकर वो बेहद परेशान थीं।

भारती के दामाद के मुताबिक, भारती बैंक में फंसे अपने पैसों को लेकर इतनी परेशान थीं कि उनको इसके चलते दिल का दौरा पड़ गया और उनकी मौत हो गई।  ऐसे में इस मौत के साथ ही पीएमसी बैंक के ग्राहकों में पांच लोगों की जान जा चुकी है।

PMC बैंकः अबतक 3 खाताधारकों की मौत, पत्रकार बोले- क्या इन मौतों के लिए भी ‘नेहरु’ जिम्मेदार है?

इससे पहले फट्टोमल पंजाबी और संजय गुलाटी की दिल का दौरा पड़ने  से मौत की बात सामने आई। वहीं मुंबई के वरसोवा इलाके में रहने वाली 39 वर्षीय एक डॉक्टर जो कि PMC की खाताधारक भी थीं की आत्महत्या का मामला सामने आया। चौथी खबर मुरलीधर ढर्रा नाम के एक 83 वर्षीय वृद्ध की मौत की थी।

इधर घोटाले से परेशान पीएमसी बैंक खाताधारकों की लगातार मौतों की ख़बरें आ रही हैं और उधर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी बॉलीवुड स्टार्स के साथ फोटो खिंचवाने में व्यस्त हैं। पीएम मोदी के पास इतना समय नहीं है कि वह पीएमसी बैंक के खाताधारकों को ये आश्वासन दे सकें कि उनके पैसे नहीं डूबेंगे, उनकी सरकार खाताधारकों के साथ है। क्या इन मौतों के बाद भी पीएम मोदी का खाताधारकों से मिलने के बजाए स्टार्स के साथ सेल्फी लेना उनकी असंवेदनशीलता को नहीं दर्शाता?

क्या है PMC बैंक मामला?

बैंक में लोन घोटाले की वजह से आरबीआई ने पिछले महीने पीएमसी पर 6 महीने का प्रतिबंध लगा दिया और ग्राहकों के लिए रकम निकासी की सीमा 1000 रुपए तय कर दी थी। बाद में ये लिमिट 10 हजार और फिर 25 हजार और सोमवार को 40 हजार रुपए की गई। प्रतिबंध लागू रहने तक खाताधारक बैंक से केवल 40 हजार रुपए ही निकाल सकेंगे।

घोटाले की वजह से हजारों खाताधारकों का पैसा बैंक में फंस गया है। जिसकी वजह से खाताधारकों को काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है। इस पाबंदी की वजह से किसी की शादी रुकी हुई है तो किसी को इलाज में समस्याएं आ रही हैं। इन्हीं दिक्कतों को लेकर खाताधारक आरबीआई के आदेश के खिलाफ लगातार प्रदर्शन कर रहे हैं।