गोवा में बीजेपी सरकार की कैबिनेट का विस्तार हो गया है। इसमें कांग्रेस से आए तीन विधायकों को कैबिनेट में जगह दी गई है। इस विस्तार में चार नए मंत्रियों को जगह दी गई है। विपक्ष के नेता रहे चंद्रकांत कावलेकर को जीएफपी (गोवा फॉरवर्ड पार्टी) अध्यक्ष विजय सरदेसाई की जगह डिप्टी सीएम बनाया गया है।

डिप्टी सीएम के पद से हटाए जान के बाद विजय सरदेसाई ने नाराज़गी ज़ाहिर करते हुए कहा, “पर्रिकर की दो बार मौत हो गई… एक बार 17 मार्च को शारीरिक रूप से जबकि आज यह उनकी राजनीतिक विरासत की मौत है”। उन्होंने कहा कि गोवा सरकार मनोहर पर्रिकर की विरासत को खत्म करना चाहती है, जिसकी अनुमति नहीं दी जाएगी।

जीएफपी अध्यक्ष ने कहा, “हमने प्रमोद सावंत सरकार का समर्थन किया क्योंकि मैंने पर्रिकर को अपना वचन दिया था कि वह किसी भी परिस्थिति में सरकार का समर्थन करेंगे”। उन्होंने कहा, “हम अब एनडीए (राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन) द्वारा धोखा खाया हुआ महसूस कर रहे हैं”।

सरदेसाई ने कहा, “उन्हें भाजपा के राष्ट्रीय नेताओं से कोई आश्वासन नहीं मिला है। उन्होंने कहा, “भाजपा के केंद्रीय नेतृत्व ने अपना चेहरा खो दिया है। एनडीए ने अपने सहयोगियों को खो दिया है”।

बता दें कि कांग्रेस के 10 विधायक बुधवार को भाजपा में शामिल हो गए थे और इसके साथ ही 40 सदस्यीय सदन में भाजपा विधायकों की संख्या बढ़कर 27 हो गई है। उनके समर्थन के बाद मुख्यमंत्री प्रमोद सावंत ने जीएफपी के मंत्रियों को हटाने का फैसला किया। क्षेत्रीय पार्टी जीएफपी ने साल 2017 में मनोहर पर्रिकर के नेतृत्व वाली सरकार के गठन में अहम भूमिका निभाई थी।