भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) चुनाव जीतने के लिए हर हथकंडे अपनाती नज़र आ रही है। छठे चरण के मतदान से दो दिन पहले पश्चिम बंगाल में बीजेपी की उम्मीदवार भारती घोष के वाहन से एक लाख 13 हजार रुपए जब्त किए गए हैं। पुलिस ने इस मामले में कार्रवाई करते हुए भारती को हिरासत में लेकर 4 घंटे तक पूछताछ की। हालांकि पूछताछ के बाद उन्हें छोड़ दिया गया।

पुलिस से मिली जानकारी के मुताबिक, भारती की कार को पश्चिम मिदनापुर जिले में पिंगला इलाके के मंगल बार में गुरुवार को नाकेबंदी के दौरान करीब 11 बजे बीच रास्ते में रोका गया।  जब भारती की कार की तालाशी ली गई तो उनकी कार से 1,13,815 रुपए बरामद किए गए।  इस मामले में पश्चिम बंगाल चुनाव आयोग ने डिस्ट्रिक्ट मजिस्ट्रेट से रिपोर्ट मांगी है।

चुनाव आयोग के नियमों के अनुसार चुनाव के दौरान कोई भी उम्मीदवार 50 हजार रुपये से अधिक की धनराशि अपने साथ नहीं रख सकता है। इससे ज्यादा नकद राशि पाए जाने पर उसे इसका सबूत दिखाना पड़ेगा। गुरुवार को पुलिस ने भारती की गाड़ी से मिली नकदी को जब्त कर लिया है और फिलहाल पुलिस प्रशासन और चुनाव आयोग ने मामले की जांच शुरू कर दी।

मामला सामने आने के बाद तृणमूल कांग्रेस के नेताओं ने आरोप लगाया है कि घोष मतदाताओं को प्रभावित करने के लिए पैसे लेकर जा रही थीं। हालांकि भाजपा उम्मीदवार घोष ने इन आरोपों से इनकार करते हुए दावा किया कि वह निजी खर्चे के लिए राशि ले जा रही थीं। उन्होंने कहा कि मेरे पास केवल 50,000 रुपए थे। मेरी कार में मेरे संयोजक एवं चालक थे। मेरे संयोजक के पास 49,000 रुपए थे और चालक के पास 13,000 रुपए थे।

बता दें कि बीजेपी उम्मीदवार भारती घोष पूर्व आईपीएस अधिकारी हैं। घोष हाल ही में तृणमूल कांग्रेस के कार्यकर्ताओं को धमकी देने के मामले में सुर्खियों में आई थीं। उन्होंने टीएमसी के कार्यकर्ताओं को धमकी देते हुए कहा था कि अगर उन्होंने ज्यादा होशियारी दिखाई तो वह उत्तर प्रदेश से लोगों को बुलाएंगी और उन्हें ‘कुत्ते की मौत मारेंगी।’