• 2.3K
    Shares

भारतीय जनता पार्टी अपने बुजुर्ग नेताओं को लोकसभा मैदान में नहीं उतारेगी। ये लगभग तय हो गया जब बीजेपी संस्थापक सदस्यों में एक रहें लाल कृष्ण आडवाणी का टिकट काट दिया गया।

इसके साथ ही अब ख़बर आने लगी है की मुरली मनोहर जोशी जोकि बीजेपी बुजुर्ग नेताओं में आते है उन्हें भी टिकट नहीं दिया जा रहा है और जोशी इससे बहुत नाराज़ हैं।

दरअसल मीडिया रिपोर्ट्स की माने तो मुरली मनोहर जोशी से कहा गया है कि आपको लोकसभा चुनाव नहीं लड़वाया जायेगा। इसके साथ ही उनसे कहा गया कि पार्टी चाहती है कि आप पार्टी ऑफिस आकर चुनाव नहीं लड़ने का ऐलान करें।

कांग्रेस नहीं अपने गिरेबां में झांके मोदी, आडवाणी और जोशी की दुर्दशा पूरा देश जानता है: कांग्रेस

मगर खबरें तब बनना शुरू हो गई जब जोशी ने ऐसा करने से मना कर दिया। उन्होंने पार्टी महासचिव राम लाल से कहा कि अगर चुनाव न लड़वाने का फैसला हुआ है तो कम से कम पार्टी अध्यक्ष को आकर हमें बताना चाहिए था।

बीजेपी आडवाणी समेत जोशी शत्रुघ्न सिन्हा जैसे तमाम वाजपेयी खेमें के नेताओं को अब धीरे धीरे बाहर रास्ता दिखा रही है। अब टिकट न देने की बात पर विवाद नहीं है पार्टी अध्यक्ष के तरीके पर सभी वरिष्ठ नेता नाराज़ हो रहें हैं की उन्हें इस बारे में कम से कम बताना तो चाहिए था।

आडवाणीजी, अगर गुजरात दंगों में मोदी को बचाया नहीं होता तो आज आपकी ये दुर्गति नहीं होती

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने इस मामले पर सोशल मीडिया पर जमकर बीजेपी पर बरसे। केजरीवाल ने लिखा- मोदी जी ने जिस तरह अपने बुज़ुर्गों – आडवाणी जी और मुरली मनोहर जी- का अपमान किया है, ये हिंदू संस्कृति के बिलकुल ख़िलाफ़ है। हिंदू धर्म में हमें अपने बुज़ुर्गों का सम्मान करना सिखाया गया है।

आगे केजरीवाल ने लिखा कि जिन्होंने घर बनाया उन्ही बुजर्गो को घर से निकाल दिया? जो अपने बुजर्गो का नही हो सकता वो किसका होगा? क्या यही भारतीय सभ्यता है? हिन्दू संस्क्रति तो ये नही कहती कि बुजर्गों को बेज्जत करो देश के लोगो मे चर्चा है कि मोदी जी आडवाणी जोशी और सुषमा की बेज्जती क्यो कर रहे है?

बता दें, लोकसभा चुनाव 2019 के मद्देनजर भाजपा ने उत्तर प्रदेश के लिए 40 स्टार प्रचारकों की लिस्ट जारी की है। इस लिस्ट में पीएम मोदी समेत कई दिग्गज नेताओं के नाम हैं, मगर लालकृष्ण आडवाणी और मुरली मनोहर जोशी का नाम नहीं है। बीजेपी की उत्तर प्रदेश के लिए स्टार प्रचारकों की लिस्ट में पीएम नरेंद्र मोदी, अमित शाह, राजनाथ सिंह, नितिन गडकरी, अरुण जेटली, सुषमा स्वराज और उमा भारती का नाम है।