• 371
    Shares

भारत के इतिहास में साल 2014 का लोकसभा चुनाव हमेशा याद किया जायेगा। इसके पीछे की सबसे बड़ी वजह ये की प्रधानमंत्री पद के उम्मीदवार रहें नरेंद्र मोदी के भाषण में सिर्फ सपनों और अच्छे दिन लाने की बात कही जा रही थी।

मगर आज पांच साल बाद ऐसा बिलकुल भी नहीं है अब पीएम मोदी अच्छे दिन की बात नहीं करते अब वो सोशल मीडिया के जरिए टीशर्ट बेचने की बात करते है।

बीते रविवार को पीएम मोदी अपने अधिकारिक ट्वीटर हैंडल से ट्वीट करते हुए अपील की कि 31 मार्च को ‘मैं भी चौकीदार’ कार्यक्रम ‘ऐसे परिधान’ के साथ और बेहतर दिखेगा।

ट्विटर हैंडलर ने एक टीशर्ट की तस्वीर शेयर की थी जिस पर ‘मैं भी चौकीदार’ लिखा है। मोदी ने आगे लिखा, क्या आपने अपना ऑर्डर दिया? इतना ही नहीं बाज़ार में पहले से ही नरेंद्र मोदी की तस्वीर बनी साड़ियों का ट्रेंड पहले आ चुका है अब बाज़ार में ‘मोदी बिंदी’ आ गई है।

मेरठ में मोदी बोले- एक एक पाई का हिसाब दूंगा, मायावती बोलीं- पहले 15 लाख का हिसाब दो

इंडिया टुडे की ख़बर के अनुसार पारस फैंसी बिंदी नाम की कंपनी ने अपनी नई बिंदी लॉन्च की है। जिसमें पीएम मोदी की तस्वीर के साथ लिखा हुआ फिर से मोदी सरकार। अब बिंदी बाज़ार में सही उपलब्ध है की नहीं इसकी पुष्टि हम नहीं कर सकते है मगर सोशल मीडिया पर इस तस्वीर को लेकर खूब चर्चा हो रही है।

वहीं बहुत से लोग ऐसे भी जो इस बिंदी की तस्वीर शेयर करते हुए विपक्ष के समर्थकों पर निशाना भी साध रहे हैं। बात चाहे जो भी हो मगर खुद की ब्रांडिंग करना कोई पीएम मोदी से सीखे क्योंकि भले ही भारत खुशहाल देशों की लिस्ट में अपने निचले स्तर पर आ गया हो मगर देश का प्रधानमंत्री खुद की ब्रांडिंग में कोई कमी नहीं आई है।

रोजगार से लेकर महिला सुरक्षा जैसे अहम मुद्दों पर मौन रहें मगर पीएम मोदी सोशल मीडिया के जरिए टीशर्ट बेच रहें है। जिसमें उन्हीं का गुणगान हो रहा है नमो अगेन और फिर से मोदी सरकार से गढ़े नारों से लैस सपनें दिखाने वाले पीएम मोदी अब टीशर्ट बेचने लगे है गरीबों और वंचितों के दुःख दर्द और अत्याचार पर कौन बोलता हैं।

नायडू ने अपने ससुर को धोखा दिया: मोदी, अलका बोलीं- आपके ससुर तो आपको पाकर धन्य हो गए

क्योंकि पीएम मोदी के अनुसार ये सब विपक्ष और खासकर कांग्रेस के राज में हुआ उनके राज में सब खुश और नमो अगेन की टीशर्ट पहनकर ख़ुशी के मारे झूम रहें। पीएम मोदी ने बतौर प्रधानमंत्री उम्मीदवार सपनें दिखाया करते थे अब प्रधानमंत्री बनाने के पांच साल बाद वो सेल्समैन की भूमिका में आ चुके आगे क्या बनेगें ये देखना बाकी है