• 326
    Shares

रविवार को यूपी कांग्रेस अध्यक्ष राज बब्बर ने लखनऊ में प्रेस कॉन्फ्रेंस किया। राज बब्बर ने प्रेस से बताया कि कांग्रेस
उत्तर प्रदेश में एसपी, बीएसपी और आरएलडी गठबंधन के लिए 7 सीटें छोड़ रही है।

राज बब्बर ने कहा कि ‘कांग्रेस मैनपुरी, कन्नौज, फिरोजाबाद, अखिलेश यादव की सीट (अगर चुनाव लड़ते हैं तो), मायावती की सीट (अगर चुनाव लड़ती हैं तो), अजित सिंह और जयंत चौधरी की सीट पर प्रत्याशी नहीं उतारेगी।’

मायावती को मिला साउथ के सुपरस्टार का साथ, बोले- हम बहन जी को PM बनते देखना चाहते है

इस प्रेस कॉन्फ्रेंस से मीडिया में इस बात चर्चा होने लगी कि क्या सपा-बपसा और कांग्रेस पर्दे के पीछे से कुछ प्लान कर रहे हैं? लेकिन सोमवार की सुबह मायावती ने इस चर्चा पर पूर्ण विराम लगा दिया।

मायावती ने एक बाद एक दो ट्वीट कर, इस बात को पूरी तरह साफ कर दिया कि बसपा और कांग्रेस के बीच किसी प्रकार का तालमेल या गठबंधन नहीं है।

स्मृति ईरानी ने MPLAD फंड में किया घोटाला! कांग्रेस ने की इस्तीफ़े की मांग

मायावती ने अपने पहले ट्वीट में लिखा ‘बीएसपी एक बार फिर साफ तौर पर स्पष्ट कर देना चाहती है कि उत्तर प्रदेश सहित पूरे देश में कांग्रेस पार्टी से हमारा कोई भी किसी भी प्रकार का तालमेल व गठबंधन आदि बिल्कुल भी नहीं है। हमारे लोग कांग्रेस पार्टी द्वारा आयेदिन फैलाये जा रहे किस्म-किस्म के भ्रम में कतई ना आयें।’

मायावती ने अपने दूसरे ट्वीट में लिखा ‘कांग्रेस यूपी में भी पूरी तरह से स्वतंत्र है कि वह यहाँ की सभी 80 सीटों पर अपने उम्मीदवार खड़ा करके अकेले चुनाव लड़े आर्थात हमारा यहाँ बना गठबंधन अकेले बीजेपी को पराजित करने में पूरी तरह से सक्षम है। कांग्रेस जबर्दस्ती यूपी में गठबंधन हेतु 7 सीटें छोड़ने की भ्रान्ति ना फैलाये।’