अपने समर्थकों के बीच मोदी-मोदी का नारा सुनने वाले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Narendra Modi) को अब अपनी रैलियों में लोगों के ग़ुस्से का भी सामना करना पड़ रहा है। हरियाणा के थानेसर में कुछ ऐसा ही नज़ारा तब देखने को मिला जब एक युवक ने पीएम मोदी के सामने ही ‘बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ’ (Beti Bachao Beti Padhao) पर सवाल उठाते हुए नारेबाज़ी शुरु कर दी।

दरअसल, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी थानेसर में एक चुनावी रैली को संबोधित कर रहे थे, तभी एक युवक खड़ा हुआ और पीएम मोदी की तरफ़ इशारा करते हुए ज़ोर-ज़ोर से पूछने लगा कि ‘कहां है बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ’। वह तकरीबन 5 मिनट तक इसी तरह सवाल पूछता रहा। इस दौरान विरोध कर रहे युवक ने जिस मंच पर पीएम मोदी खड़े थे उसपर कुछ कागज़ भी फेंके। हालांकि विरोध के बावजूद पीएम मोदी ने अपना संबोधन जारी रखा।

रैली में करीब पांच मिनट तक ये हो-हल्ला चलता रहा। जिसके बाद रैली में सादी वर्दी में मौजूद पुलिसकर्मियों ने विरोध कर रहे इस युवक को पकड़ लिया और उसे रैली से बाहर ले गए। युवक की पहचान जगाधरी के रहनेवाले अशोक कुमार के रूप में हुई है। उसने मंच पर जो कागज़ फेंके थे, उसमें पीएम मोदी को मुख़ातिब करते हुए लिखा था कि यमुनानगर में आठवीं कक्षा में पढ़ने वाली एक छात्रा के साथ 26 अगस्त को उसके शिक्षक ने कथित तौर पर यौन उत्पीड़न किया।

युवक ने पत्र में आरोप लगाया है कि जब इस मामले की शिकायत पुलिस से की तो उन्होंने कोई कार्रवाई करने के बजाय छात्रा के माता-पिता पर ही प्राथमिकी दर्ज कर दी। कुमार ने आरोप लगाया कि धरने के बाद भी पुलिस ने प्राथमिकी नहीं वापस ली। इस मामले पर पुलिस अधीक्षक आस्था मोदी से जब पूछा गया तो उन्होंने कहा कि मामले में जांच चल रही है।

ये पहली बार नहीं है जब पीएम मोदी को अपनी रैली में विरोध का सामना करना पड़ा है। इससे पहले इसी साल मई में चंडीगढ़ में छात्रों ने पीएम मोदी की रैली से पहले पकौड़े तल कर उनके खिलाफ़ अपना विरोध दर्ज किया था। हालांकि विरोध करने वाले छात्रों को उस वक्त पुलिस ने हिरासत में ले लिया था।