• 107
    Shares

भाजपा नेता अक्सर सांप्रदायिक बयान देते रहते हैं। कभी अमित शाह मुसलमानों को घुसपैठिया बताते हैं तो कभी मेनका गाँधी मुसलमानों को वोट करने के लिए धमकाती हैं। लेकिन इस बार खुद एक भाजपा नेता ने मेनका गांधी के दिए हुए बयान पर आपत्ति जताई है।

बीजेपी नेता और मथुरा से सांसद हेमा मालिनी ने अपनी ही पार्टी की केंद्रीय मंत्री मेनका गांधी के बयान का विरोध किया है।

मेनका गांधी ने मुसलमानों को दी धमकी- अगर आप BJP को वोट नहीं करेंगे तो हम नौकरी नहीं देंगे

दरसअल, सुल्तानपुर से भाजपा की उम्मीदवार मेनका गांधी ने इस क्षेत्र की एक सभा में कहा था कि अगर मुस्लिम उन्हें वोट नहीं देगा तो वो सांसद बनने के बाद उनका काम भी नहीं करेगी। मेनका गाँधी ने ये बयान सुल्तानपुर के मुस्लिम बाहुल्य गांव तुराबखानी में एक स्टेज पर से दिया था।

उनके इस बयान पर हेमा मालिनी ने प्रतिक्रिया देते हुए कहा, “ट्रिपल तलाक़ के मुद्दे पर कई अल्पसंख्यक समाज की महिलाएं हमारा समर्थन करती हैं। लेकिन अगर वो नहीं भी करती तब भी आपको सबकी मदद करनी चाहिए। इससे फर्क नहीं पड़ता किसने हमें वोट दिया है और किसने नहीं, मैं ऐसा नहीं सोचती। हर कोई अलग है।”

जहां एक ओर हेमा मालिनी ने अपनी पार्टी की केंद्रीय मंत्री के आपत्तिजनक बयान से किनारा कर लिया, तो वहीँ दूसरी तरफ उन्होंने मेनका गाँधी के बयान पर आपत्ति भी जता दी।

मुस्लिमों से बोलीं मेनका- वोट नहीं तो नौकरी नहीं, विशाल बोले- क्या EC सो रहा है?

शायद मेनका गांधी भी इस बात को समझेंगी और इस तरह से किसी धर्म-विशेष को काम का डर दिखा कर वोट करने पर विवश नहीं करेंगी। क्योंकि ये संविधान और कानून दोनों के खिलाफ है।