• 3.3K
    Shares

लिंचिंग का माहौल जो यूपी के दादरी से शुरू होता है फिर पूरे देश में धीरे धीरे फ़ैल जाता है। अब दिल्ली से सटे हरियाणा के गुरुग्राम में क्रिकेट खेलने को लेकर ऐसा विवाद बढ़ा कि मुस्लिम परिवार को भीड़ ने जमकर पीटा। इस पूरे घटना की वीडियो परिवार में से एक सदस्य ने अपने मोबाइल से रिकॉर्ड कर ली थी।

दरअसल परिवार के सदस्य 21 वर्षीय दनिश्ता ने वीडियो रिकॉर्ड की है। इस वायरल होते वीडियो में साफ़ देखा जा सकता है कि भीड़ 32 वर्षीय मोहम्मद दिलशाद के दो मंजिला मकान में घुसकर तोड़ फोड़ और मारपीट कर रहें है और लगातार पत्थरों से हमला कर रहें है।

जब भीड़ एक शख्स को बेरहमी से पीट रही थी तभी साथ खड़ी बूढ़ी महिलाएं उनसे दया की भीख मांग रही थी। मगर वो लगातार मारते चले गए और इतना पीटा की डंडा तक टूट गया मगर उनके हाथ रुके नहीं।

पीड़ित दिलशाद ने पुलिस से बताया कि लोगों ने उसके घर पर पत्थरों से हमला किया और हमारी बाइक भी तोड़ दी इसके बाद हमने सुरक्षा के लिहाज से घर की महिलाओं को दूसरी मंजिल पर भेज दिया।

फिर भी वो शांत नहीं हुए और ऊपर के कमरे में आ गए और दिलशाद को बेरहमी से खूब मारा जिसके बाद वह बेहोश हो गया। जाते-जाते वे उनकी गाड़ियां भी तोड़ते हुए चले गए। इसके बाद उन्होंने पुलिस को कॉल किया जिसके बाद उन्हें घायलावस्था में अस्पताल पहुंचाया गया।

दिलशाद ने बताया कि वो उत्तर प्रदेश के बागपत का रहने वाला है जो भोंड़सी में कूलर बेचने का काम करता है। उसने 4 साल पहले ये मकान बनाया था जिसमें वह अपने परिवार और अपने अंकल के परिवार के साथ रहता था। दिलशाद ने बताया कि उसके इलाके में 4-5 मुस्लिम परिवार के लोग रहते हैं।

वहीं पुलिस का कहना है की दिलशाद यहां होली की शाम 3 बजे के करीब अपने पड़ोसियों के साथ क्रिकेट खेलने के लिए पास के मैदान में गया। अचानक 9 लड़के तीन बाइक पर आए और चिल्लाकर उन्हें कहने लगे तुम यहां क्या कर रहे हो? जाओ पाकिस्तान। इसके बाद वे वहां से क्रिकेट छोड़ घर आ गए सीधे घर पर हमला करने लगे।

वे हॉकी स्टिक अपने साथ लेकर आए थे और उसी से परिवार पर हमला कर दिया। बाद में पुलिस को दर्ज किए शिकायत में वहीं से उसकी 21 वर्षीय एक बेटी दनिश्ता ने इस पूरे हमले का वीडियो बना लिया जो सोशल मीडिया पर अब वायरल हो गया है।

पुलिस ने इस मामले में दिलशाद की शिकायत के आधार पर अज्ञात हमलावरों के खिलाफ आईपीसी की धारा 147 (दंगे), 148, 452, 506 और 307 के तहत मामला दर्ज कर लिया है।

25,000 रुपए, एक सोने की चेन और एक जोड़ी ईयररिंग ले गए

बेटी दनिश्ता जो लगातार वीडियो रिकॉर्ड कर रही थी उसने बताया की उन लड़कों में से एक ने मुझे वीडियो बनाते हुए देख लिया जिसके बाद वे अपनी पहचान उजागर होने के डर से चिल्लाते हुए मुझे पकड़ने के लिए ऊपर आ गए तब तक उसने फोन को टाइल्स के पीछे छुपा दिया था।

पीड़िता ने बताया की हमलावरों ने महिलाओं और बच्चों को भी नहीं छोड़ा और उन्हें भी मारा, ये पूरी घटना 15 मिनट तक चली।

दनिश्ता ने बताया की वे उसकी आलमीरा से 25,000 रुपए, एक सोने की चेन और एक जोड़ी ईयररिंग भी निकाल ले गए। इसके बाद वे ऊपर के कमरे में आ गए और दिलशाद को बेरहमी से खूब मारा जिसके बाद वह बेहोश हो गया। जाते-जाते वे उनकी गाड़ियां भी तोड़ते हुए चले गए। इसके बाद उन्होंने पुलिस को कॉल किया जिसके बाद उन्हें घायलावस्था में अस्पताल पहुंचाया गया।

बता दें कि ये पूरा मामला होली के मौके पर हुआ है जब देश भर में आपसी एकता और प्रेम के साथ होली मनाई जा रही थी वही गुरुग्राम में मुस्लिम समुदाय के लोगों पर हमला बोल दिया। ये पहला ऐसा मौका नहीं है जब एक धर्म विशेष को इस तरह से निशाना बनाया गया हो। इससे पहले कभी गाय को लेकर गोरक्षक हमला बोलते है तो कभी कश्मीरियों को सरेआम सड़को पर लाठी डंडो से मारा जाता है और मौजूदा सरकार इस बदलते हुए माहौल को न्यू इंडिया कहती है।