मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष अखिलेश यादव की जाति को लेकर विवादित बयान दिया है। उन्होंने कहा कि अगर बाबा साहेब अंबेडकर ने संविधान न बनाया होता तो अखिलेश यादव किसी जमींदार के यहां भैंस चरा रहे होते।

चुनाव आयोग द्वारा लगाए गए 72 घंटे के बैन के बाद चुनाव प्रचार के लिए इटावा पहुंचे सीएम योगी ने महागठबंधन पर ज़ोरदार हमला बोला। उन्होंने शहर के रामलीला मैदान में जनसभा को संबोधित करते हुए  कहा कि जो लोग एक दूसरे की शक्ल तक देखना पसंद नहीं करते थे आज वह लोग एक साथ एक मंच सांझा कर रहे हैं।

इस दौरान उन्होंने सपा प्रमुख अखिलेश यादव की जाति को लेकर विवादित टिप्पणी की। सीएम योगी ने कहा कि अगर बाबा साहेब अंबेडकर ने संविधान न बनाया होता तो अखिलेश यादव सैफई के किसी जमींदार के यहां भैंस चरा रहे होते। हालांकि उन्होंने दावा किया कि यह बात मायावती ने अखिलेश के बारे में कही थी।

सीएम योगी बीजेपी प्रत्याशी रामशंकर कठेरिया के लिए वोट मांगने इटावा पहुंचे थे। योगी ने कहा कि रामशंकर कठेरिया जैसे बड़े नेता को इसलिए यहां लाए हैं ताकि आप लोगों का कोई बाल बांका नहीं कर सके। साथ ही उन्होंने रामशंकर कठेरिया को जीताने की भी लोगों से अपील की।

इस दौरान सीएम योगी ने कांग्रेस को भी आड़े हाथों लिया। उन्होंने कहा कि कांग्रेस ने 55 सालों के राज्य में पूरे देश को बर्बाद कर दिया। दुनिया भर के देश भारत को एक अलग नजर से देखते थे, लेकिन नरेंद्र मोदी ने पांच वर्षों के अंदर ही आज भारत की पूरी दुनिया कि नजरों में एक अलग पहचान बनाई है।

योगी ने उत्तर प्रदेश में अपनी सरकार को अबतक की सबसे बेहतर सरकार तक करार दे दिया, वह यह कहते नज़र आये की सपा बसपा के राज में उत्तर प्रदेश में गुंडाराज, भ्रष्टाचार, अपहरण जैसे अपराध चरम पर थे और उनकी सरकार आते ही उन्होंने उन सभी चीज़ो पर लगाम लगाई है और ज़मीनी असलियत क्या है यह सभी को पता है।