• 502
    Shares

भारत और चीन के बीच बढ़ रहें तनाव में एक बार फिर नया मोड़ आ गया है। जो पाकिस्तान के लिए अच्छी ख़बर हो सकती है मगर भारत के लिए ये अच्छी ख़बर नहीं है। चीन ने अंतर्राष्ट्रीय समुदाय को भी साफ कर दिया कि वह संकट के समय पूरी तरह अपने पाकिस्तान दोस्त की मदद करेगा।

दरअसल कुछ ही दिनों पहले पुलवामा हमले के बाद जैश-ए-मोहम्मद के सरगना मसूद अजहर (Masood Azhar) को ‘वैश्विक आतंकी’ घोषित होने से बचाने के लिए चीन (China) द्वारा वीटो लगाते हुए एक बार फिर मसूद अजहर को वैश्विक आतंकवादी घोषित होने से बचा लिया था।

अब पाकिस्तान के विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी अपने चीन के दौरे पर पहुंचे तो उन्होंने चीन के विदेश मंत्री वांग यी के साथ पुलवामा हमले पर चर्चा की। इसके बाद पाकिस्तान का बचाव करते हुए चीन ने पूरी दुनिया (जिसमें इशारा भारत की तरफ ज्यादा था) को दो टूक कह दिया कि पुलवामा हमले को लेकर पाकिस्तान पर निशाना न साधे।

चीन का साफ़ कहना है कि पाकिस्तान के साथ खड़ा रहेगा और पूरी मजबूती से उसकी क्षेत्रीय अखंडता और संप्रभुता का समर्थन करेगा। दोनों विदेश मंत्री बीजिंग में चीन-पाकिस्तान रणनीतिक संवाद के तहत मिले।

चीन ने पाकिस्तान के कसीदे पढ़ते हुए कहा कि पाकिस्तान ने तनाव को कम करने के लिए अच्छे प्रयास किए, जिसकी वो सराहना करता है। चीन ने कहा कि हम पाकिस्तान और भारत से संयम बरतने और मुद्दों का समाधान शांतिपूर्ण ढंग से करने का आह्वान करते हैं।

चीन ने दिया पाकिस्तान का साथ, आचार्य बोले- हमारे ‘झूले लाल’ का झूला पसंद नहीं आया

पाकिस्तानी विदेश मंत्री ने कहा कि पाकिस्तान पहले भी और अब भी भारत से संबंध बेहतर करना चाहता है और संवाद के लिए तैयार है। जिसपर चीन ने कहा कि इससे कोई फर्क नहीं पड़ता कि दुनिया में या क्षेत्र में चीजें किस तरह बदलती हैं। चीन पूरी मजबूती से पाकिस्तान की संप्रभुता, क्षेत्रीय अखंडता, आजादी व सम्मान के साथ खड़ा रहेगा।

चीनी विदेश मंत्री वांग ने पाकिस्तान की पैरवी करते ने कहा कि एक शांतिपूर्ण और स्थायित्वपूर्ण दक्षिण एशिया, इलाके के सभी देशों के हित में है।

गौरतलब हो कि पिछले ही हफ्ते चीन ने पुलवामा हमले के आरोपी कहे जाने वाले जैश-ए-मोहम्मद के सरगना मसूद अजहर को ‘वैश्विक आतंकी’ घोषित नहीं करने दिया था। जिसके बाद गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने एक टीवी चैनल को कहा था कि चीन भी रास्ते पर आ रहा है जल्द सबकुछ ठीक हो जायेगा, मगर ऐसा कुछ हुआ नहीं और चीन हर बार की तरह इस बार भी पाकिस्तान के समर्थन में खड़ा नज़र आ रहा है।