उन्नाव गैंगरेप मामले में बीजेपी विधायक कुलदीप सिंह सेंगर की मुश्किलें और भी बढ़ सकती है। अब सीबीआई ने तीस हजारी कोर्ट में चल रही सुनवाई के दौरान कोर्ट से कहा कि बीजेपी से निष्कासित विधायक सेंगर पर बलात्कार का आरोप सही है। हमारी जांच से अबतक जो कुछ भी निकलकर सामने आया है उससे यही कहा जा सकता है।

दरअसल उन्नाव गैंगरेप से जुड़े सभी मामलों को उत्तर प्रदेश की जगह दिल्ली ट्रान्सफर कर दिया गया है। इस मामले की सुनवाई के दौरान सीबीआई ने जज से कहा कि हमारी अबतक की जांच में पता चला है कि आरोपी कुलदीप सिंह सेंगर और उसके भाई पर जो आरोप लगे है वो सही है।

सीबीआई ने कहा कि साल 2017 4 जून को पीड़िता के साथ बलात्कार करने वालों में कुलदीप सिंह सेंगर और विधायक के भाई शशि सिंह के साजिश में शामिल होने के आरोप सही पाया गया हैं।

5 जून को साक्षी महाराज सेंगर से मिलते हैं और फिर पीड़िता की कार को ट्रक टक्कर मार दी जाती है : बरखा

सीबीआई ने साफ किया कि 4 जून 2017 को पीड़िता के साथ रात 8 बजे रेप हुआ। उस समय पीड़िता की उम्र 18 साल से कम थी, और इसी आधार पर चार्जशीट दायर की गई थी।

गौरतलब हो कि इससे पहले कुलदीप सिंह सेंगर सीतापुर की जेल में बंद था। मगर बीते महीने पीड़िता के एक्सीडेंट के बाद उन्हें यूपी के सीतापुर जेल से दिल्ली के तिहाड़ जेल में ट्रान्सफर किया गया था।

वहीं पीड़िता को भी लखनऊ से दिल्ली ट्रान्सफर करने का आदेश दिया गया था, इन मामलों में सेंगर अब भी खुद को निर्दोष बता रहें है तीस हजारी कोर्ट ने गवाहों के मामले में उत्तर प्रदेश के डीजीपी को भी निर्देश दिया। साथ ही पीड़ित के वकीलों को केस से जुड़े तमाम दस्तावेज मुहैया करवाने का भी आदेश जारी किया गया।