• 4.6K
    Shares

मोदी सरकार भले ही कितने दावे कर ले की उसकी सरकार में कोई आतंकी हमला नहीं हुआ। मगर सच्चाई इससे कहीं अलग और भयानक है।

आज फिर जम्मू कश्मीर के पुलवामा आवंतीपोरा इलाके में हुए एक IED ब्लास्ट में सीआरपीएफ के 8 जवानों के शहीद होने की खबर है, वहीं 40 से अधिक जवान घायल हुए हैं।

हमलावरों ने सुरक्षा बलों को निशाना बनाया था साथ ही इस हमले की जिम्मेदारी जैश-ए-मोहम्मद ने ली है।

दरअसल पुलवामा में इससे पहले एक निजी स्कूल के अंदर धमाका हुआ था। जिसमें लगभग 12 बच्चे जख्मी हुए थे। साथ ही आज इंफाल के कांचीपुर में एक स्कूल के बाहर IED बम मिलने की सूचना मिली थी।

वहीं स्थानीय पुलिस की तरफ से अधिकारिक बयान देते हुए बताया गया है की दोपहर ढाई बजे प्राइवेट स्कूल के क्लास रूम में धमाका हुआ, जिसमें 12 बच्चे घायल हुए हैं, सभी की हालत ठीक है, इस मामले में केस दर्ज कर लिया गया है।

मोदी सरकार पर भड़के मोहन भागवत, बोले- बिना युद्ध हमारे जवान शहीद हो रहे हैं, इस सरकार ने कोई काम नहीं किया

गौरतलब हो कि पुलवामा में सेना और आतंकियों के बीच मुठभेड़ हुई थी। इस एनकाउंटर में सेना का जवान शहीद हुआ था, जबकि एक जवान घायल हुआ था। इससे पहले भी उरी सेक्टर में कुछ संदिग्धों को देखा गया था।

बता दें कि इससे पहले रक्षा मंत्री ने एक कार्यक्रम में कहा था कि मोदी सरकार में एक भी आतंकी हमला नहीं हुआ बल्कि सेना ने पहले से ज्यादा मजबूत हुई है। जिसके बाद कई पत्रकारों ने रक्षा मंत्री के बयान पर कहा था कि उरी और पठानकोठ हमले को क्या आतंकी हमला नहीं कहा जायेगा क्योंकि वो हमला भी आतंकियों ने ही तो किया था।