• 1.3K
    Shares

चीन को लाल आंख दिखाने की बात करने वाले पीएम मोदी को अब चीन की वजह से दुनियाभर में रुसवाई का सामना करना पड़ा है। ऐसा इसलिए क्योंकि जैश-ए-मोहम्मद के सरगना मसूद अजहर (Masood Azhar) को ‘वैश्विक आतंकी’ घोषित होने से बचाने के लिए चीन (China) द्वारा वीटो लगाते हुए एक बार फिर मसूद अजहर को वैश्विक आतंकवादी घोषित होने से बचा लिया है।

वहीं दूसरी तरफ राजयनिक ने इस मामले पर कहा कि यह चौथी बार है कि चीन ने ऐसा किया है। चीन को समिति को वह कार्य करने से नहीं रोकना चाहिए, जिसे सुरक्षा परिषद ने करने के लिए सौंपा है। अगर चीन अड़ंगा लगाता रहा तो जिम्मेदार सदस्यों देशों के सुरक्षा परिषद में अन्य एक्शन लेने पर मजबूर होन पड़ेगा। ऐसा नहीं होना चाहिए।

मतलब चीन ने भारत की बात को काटते हुए पाकिस्तान का साथ दिया हो। ये कोई पहला मामला नहीं है। वो हर बार पाकिस्तान का साथ देता रहा है और जब चीन ने संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में उसे वैश्विक आतंकी घोषित करने वाले प्रस्ताव पर तकनीकी रोक लगा दी तो ऐसे में मोदी सरकार सवालों के घेरे में गई।

कश्मीरी छात्रों को मारने वाले उस BJP पर चुप क्यों हैं जिसने आतंकवादी मसूद अज़हर छोड़ा था : रवीश कुमार

मगर बीजेपी ने पीएम मोदी की नाकामी को छुपाते हुए। एक बार देश के प्रथम प्रधानमंत्री जवाहर लाल नेहरु पर इसका दोष मढ़ दिया है। बीजेपी ने ट्वीट में लिखा,

भारत अभी तक आपके परिवार के द्वारा की गई गलतियों को ही भुगत रहा है। आप इस बात को निश्चित समझें कि भारत आतंकवाद के खिलाफ जंग जीत कर ही रहेगा। ये सब आप प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर छोड़ दीजिए, जबतक आप चीनी समकक्षों से चोरी-छुपे मिलते रहिए।

बीजेपी ने राहुल गांधी के उस ट्वीट पर अपना जवाब दिया था जिसमें राहुल ने कहा था- कमजोर मोदी, शी जिनपिंग से इतने डरे हुए हैं कि चीन ने भारत के खिलाफ कदम उठाया और उनके मुंह से एक शब्द नहीं निकला।

प्रियंका ने स्मृति ईरानी को बताया ट्रोल मंत्री, कहा- देश को बताएं ‘मसूद अज़हर’ को किसने छोड़ा

राहुल गांधी ने आगे लिखा, “चीन को लेकर नमो की कूटनीति: पहला गुजरात में शी जिनपिंग के साथ झूला झूलो दूसरा शी जिनपिंग को दिल्ली में गले लगाओ। तीसरा चीन में शी जिनपिंग के सामने झुक जाओ।